मंगलवार, 26 अगस्त 2008

फलित ज्योतिष की खामियॉ astrology, jyotish , rashifal, forecast, 2014

किसी अनजान व्यक्ति के भूत या वर्तमान को बतलानेवाले व्यक्ति ज्योतिषी ही नहीं , हस्तरेखा विशेषज्ञ , तांत्रिक , योगी और हिप्नोटाइज करनेवाले भी हो सकते हैं , किन्तु भविष्य की जानकारी देनेवाली एकमात्र विद्या फलित ज्योतिष ही है , जो इस विशाल ब्रह्मांड में विचरण करनेवाले ग्रहों के आधार पर मानवजीवन पर पड़नेवाले प्रभाव को स्पष्ट करती है। इसलिए भूत और वर्तमान को बतलानेवाले स्पष्टत: ज्योतिषी ही हैं , यह भ्रम न पालें। आजकल फलित ज्योतिष को विज्ञान नहीं स्वीकार किए जाने का मुख्य कारण इसकी कुछ कमजोरियॉ हैं—–
फलित ज्योतिष की सबसे बड़ी कमजोरी — ग्रहों की शाक्ति के मूल्यांकण के लिए प्रामाणिक सूत्र का अभाव होना। किसी व्यक्ति के विशेष संदर्भो की व्याख्या के लिए उसके राfशश या उसकी राfश में स्थित ग्रहों की शक्ति की जानकारी आवश्यक है , किन्तु इस विषय पर ज्योतिष के सभी विद्वान एकमत नहीं हैं। ग्रह की शक्ति के निर्धारण के लिए प्राचीन ग्रंथों में दस-बारह सूत्र दिए गए हैं। हर ज्योतिषी हर जन्मकुंडली के फल के अनुसार अलग अलग सूत्र को महत्वपूर्ण मानते हैं।
बिल्कुल यही हाल ग्रहों के दशाकाल निर्धारण में भी है , यानि किस ग्रह का प्रभाव जीवन के किस अवधि पर पड़ेगा , इसके लिए विंशोत्तरी दशा पद्धति का उपयोग किया जाता है , किन्तु इसमें एक साथ ग्रह की चार दशाएं चलती हैं। हर ज्योतिषी हर जन्मकुंडली के फल को देखते हुए अलग-अलग दशाकाल को महत्वपूर्ण समझते हैं। दरअसल हमारे अनुभवी और ज्ञानी _षि-महर्षियों के बाद ज्योतिष-शास्त्र परंपरागत व्यवसाय के रुप में सिमट गया और सभी ज्योतिषियों के भविष्यकथन में अंतर फलित ज्योतिष का एक अवैज्ञानिक पहलू बनकर उभरा और अंधविश्वास में इसकी गिनती होने लगी।
वास्तव में भविष्य जानना सबके लिए आवश्यक है। भविष्य में उपस्थित होनेवाली सफलताओं की जानकारी जहॉ वर्तमान की कठिनाइयों से लड़ने की शक्ति देती है , वहीं भविष्य में उपस्थित होनेवाली कठिनाइयों की जानकारी अतिआशावाद को कम कर निfश्चंति को कम कर अधिक जागरुक बनाती है।

5 टिप्‍पणियां:

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

मैं आपको अपनी कुंडली भेजूं तो क्या उस पर कुछ चरचा संभव है ?

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

bahut badhiya janakari dene ke liye abhaar.

Rohit Tripathi ने कहा…

Jyotish mein mera bada vishwash hai.. kyoki Mai ek Brahmin parivar se hu.. lekin aaj kal jo kai Padit logo se jyotish ke naam se dhan loot rahe hai usse mujhe bada dukh hota hai.. Aap ne acha likha likhte rahiye :-)

New Post :
मेरी पहली कविता...... अधूरा प्रयास

डॉ आदित्य शुक्ल ने कहा…

Bahut gyanprad lekh hai.
Badhai

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

भविष्य में उपस्थित होनेवाली सफलताओं की जानकारी जहॉ वर्तमान की कठिनाइयों से लड़ने की शक्ति देती है, वहीं भविष्य में उपस्थित होनेवाली कठिनाइयों की जानकारी अतिआशावाद को कम कर अधिक जागरुक बनाती है।

सही कहा आपने. धन्यवाद!