रविवार, 14 सितंबर 2008

धन-कोष और ज्योतिष 2014, astrology, forecast, jyotish, rashifal, गत्‍यात्‍मकता,



किसी जातक के धन के परिमाणात्मक पहलू को जन्मकुंडली के द्वारा नहीं बतलाया जा सकता। किसी भी कुंडली को देखकर जातक सहस्रपति है या हजारपति , लखपति है या करोड़पति , इस बात का जवाब दे पाना मुश्किल ही नहीं , असंभव ही है। इसका कारण भी वही है , युग , समाज , प्रदेश और देश का प्रभाव। किसी विकसित देश और अविकसित देश में एक ही दिन एक ही लग्न में जन्म लेनेवाले एक जैसे कुंडली प्राप्त करनेवाले बच्चों के आर्थिक स्तर में काफी अंतर देखा जा सकता है। देश की बात छोड़ भी दी जाए , तो एक ही देश में एक समय में किसी मंत्री के पुत्र के जन्म के समय ही एक सामान्य कृषक के पुत्र का भी जन्म हो सकता है , जबकि दोनो के आर्थिक स्तर में काफी फर्क होगा। इसी प्रकार दो युगों में भी आर्थिक स्तर और नीतियो के अंतर को भी नकारा नहीं जा सकता। यहॉ कोई प्रश्न नहीं किया जा सकता , क्योंकि शरीर की तरह ही जातक के आर्थिक स्तर का कोई निश्चित स्वरुप नहीं होगा।
किन्तु शरीर की तरह ही धन के गुणात्मक पहलू की चर्चा करना काफी आसान है , वास्तव में हर युग और प्रदेश में धन का अर्थ वह साधन है , जिसके द्वारा अपनी सारी आवश्यकताओं की पूर्ति की जा सके। मनुष्य की आवश्यकताएं समाज , परिवार और अपनी मानसिक बनावट के अनुसार घटती बढ़ती हैं। यदि जन्मकुंडली में धन की स्थिति सुखद हो , तो मंत्री का पुत्र भी अपनी धन की स्थिति से संतुष्ट हो सकता है और सामान्य कृषक का पुत्र भी। किन्तु यदि धन की स्थिति गड़बड़ होगी , तो मंत्री के पुत्र को भी अपने स्तर के अनुरुप निर्वाह करने में धन से असंतुष्टी बनी रहेंगी और ऐसा ही कृषक के पुत्र के साथ भी हो सकता है। धन के मामले में लापरवाही का योग होगा , तो दोनो ही लापरवाह हो सकते हैं। इसी प्रकार धन कमाने में दोनो का ही ध्यानसंकेन्द्रण हो सकता है । इसमें सफलता और असफलता दोनो को ही मिल सकती है , परंतु चूंकि यहॉ शुरुआत में ही स्तर का बड़ा फर्क है , इसलिए अंत में भी स्तर का बना रहना स्वाभाविक है और इस कारण पूरे जीवन धन कमाने की प्रबल इच्छा , कार्यक्षमता और सफलता के बावजूद भी हो सकता है , एक किसान का पुत्र उस स्तर तक नहीं पहुंच पाए , जहॉ से एक मंत्री के पुत्र ने अपनी यात्रा आरंभ की थी , लेकिन इसके बावजूद धन के प्रति दोनों के दृष्टिकोण , कार्यप्रणाली और और सफलता-असफलता के एक जैसे होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता , जिसके कारण अपने-अपने क्षेत्र में दोनों ही महत्वपूर्ण बनें रहेंगे।
इस तरह जन्मकुंडली देखकर धन के बारे में यह बतलाया जा सकता है कि जातक धन के मामले में भाग्यशाली है या नहीं ? धनविषयक कार्यक्रमों में वह गंभीरता रखता है या निश्चिंती ? यदि निश्चिंती है , तो इसका कोई भयावह परिणाम दिखाई पड़ने की संभावना है या नहीं ? यदि वह गंभीरता रखता है , तो उसका सकारात्मक फल प्राप्त करेगा या नहीं ? यदि धन के मामले में उसकी स्थिति दयनीय है , तो उसमें सुधार आएगा या नहीं ? न सिर्फ इन सब प्रश्नों के उत्तर दे पाना ही संभव है , वरन् यह भी बतलाना संभव है कि ये बातें किस उम्र में अधिक फलदायी बनें रहेंगे।

11 टिप्‍पणियां:

कामोद Kaamod ने कहा…

सही बात है. जातक के भविष्य उसके परिवार और आस-पास के वातावरण पर बुहुत निर्भर करता है. ज्ञान ग्रहण कर लिया. धन्यवाद .

अशोक पाण्डेय ने कहा…

अच्‍छा लेख है। जन्‍मकुंडली संबंधी इस पहलू की जानकारी के लिए आभार।

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप का लेख अच्छा लगा
धन्यवाद

sab kuch hanny- hanny ने कहा…

achchha lekh hai. kafi jankariyan hain or jijnashayen v

scamameta ने कहा…

thanks mam to read my blog
scam24inhindi

SANJAY SINGH ने कहा…

mere system par is template ke font ki jagah dots kyon dikh rahe hain??????

आलोक कुमार ने कहा…

आपकी बातें बड़ी तर्कपूर्ण है....क्या सचमुच ऐसा होता है क्या जन्मकुंडली के प्रभाव से ??

संगीता पुरी ने कहा…

कामोदजी ,अशोक पाण्डेयजी,राज भाटिय़ाजी,sab kuchhannyhannyजी ,scamametaजी,SANJAY SINGHजी,आलोक कुमारजी को बहुत बहुत धन्यवाद।

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

Maine 1 baar aapko kundli bhejni chahi thi.... aapne koi uttar nahi diya?

SANTOSH K AGGARWAL ने कहा…

संगीताजी,
मैं एक बार पहले भी आपके ब्लॉग का मुआयना करके जा चुका हूँ. सोचा था किसी दिन फुर्सत में लिखूंगा. कई दिनों से हिन्दी ब्लॉग जगत को छान रहा हूँ. आपका ब्लॉग सबसे अनूठा है. ज्योतिष मेरे लिए हमेशा से ही एक कौतुहल का विषय रहा है. सच मानिये तो मैं कभी भी इसे पुरे तौर पर मानने के लिए तैयार नहीं कर पाया. हालाँकि मैं कई बार मजबूरीवश ज्योतिषों के पास गया हूँ, पर लगभग हमेशा ही मैंने यह पाया है कि अधिकतर predictions या तो सामान्य( जिससे कोई भी अपने आप को जोड़ सकता है..या फ़िर फेस रीडिंग होती है. और अब यह गत्याताम्क ज्योतिष... क्या आप कुछ ऐसा बता सकती है, जो मन मानने के लिए तैयार हो जाए? शुभकामनाओं सहित.

sanjay ने कहा…

internet explorer men kholkar dekhiye