शनिवार, 13 दिसंबर 2008

गोचर के शनि की स्थिति का जनमानस पर प्रभाव ( Astrology )

आज 13 दिसम्बर 2008 को शनि ग्रह की सूर्य से एक खास कोणिक दूरी और पृथ्वी से सामान्य स्थिति बनी हुई है। गत्यात्मक ज्योतिष के अनुसार आज से 2 जनवरी 2009 तक शनि ग्रह की स्थैतिक उर्जा में दिन प्रतिदिन वृद्धि होती जाएगी। आज से 2 जनवरी तक शनि ग्रह की यह स्थिति जनसामान्य के सम्मुख विभिन्न प्रकार के कार्य उपस्थित करेगी। इस एक महीने में लोग शनि के कारण उत्पन्न होनेवाले कार्य में उलझे हुए रहेंगे।


कुछ लोगों के लिए यह व्यस्तता सुख प्रदान करनेवाली होगी। वे उत्साहित होकर कार्य में जुटे हुए रहेगे। एक महीने तक कार्य अच्छी तरह होने के पश्चात 2 जनवरी 2009 के बाद किसी न किसी प्रकार के व्यवधान के उपस्थित होने से कार्य की गति कुछ धीमी पड़ जाएगी। 9 मार्च 2009 तक काम लगभग रुका हुआ सा महसूस होगा। 17 मई 2009 के पश्चात शनि ग्रह में गति आने कें साथ ही स्थगित कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में उपस्थित होकर पुन: गतिमान होगा और 6 जून 2009 तक अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। शनि के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इन लोगों को खुशी होगी। ऐसा निम्न लोगों के साथ होगा---



1. वे वृद्ध ,जिनका जन्म 1924 , 1925 के अक्तूबर या नवम्बर में , 1926 , 1927 , 1928 के मई या जून में , 1929 , 1930 के जून या जुलाई में , 1931 , 1932 , 1933 के जुलाई या अगस्त में , 1934 , 1935 के अगसत या सितम्बर में हुआ हो।
2. जिनका जन्म मई 1937 से मार्च 1940 , मार्च 1967 से अप्रैल 1969 , अप्रैल 1996 से फरवरी 1999 के मध्य हुआ हो।
3. जिनका जन्म मेष राशि के अंतर्गत हुआ हो।



किन्तु शनि की इस विशेष स्थिति से कुछ लोगों को कष्ट या तकलीफ भी होगी। वे आज के बाद निराशाजनक वातावरण में कार्य करने को बाध्य होंगे। एक महीने के पश्चात 2 जनवरी 2009 के बाद कार्य के असफल होने से भी उन्हें तनाव का सामना करना पडेगा । 17 मई 2009 के पश्चात शनि में गति आने के साथ-साथ पुन: निराशाजनक वातावरण में वे कार्य को आगे बढ़ाएंगे, कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में गतिमान होकर 6 जून 2009 तक अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। शनि के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इनलोगों को कष्ट पहुंचेगा। ऐसा निम्न लोगों के साथ होगा ----



1. वे वृद्ध ,जिनका जन्म 1924 और 1925 में अप्रैल या मई में , 1926 , 1927 और 1928 में मई या जून में , 1929 और 1930 में जून या जुलाई में , 1931 , 1932 और 1933 में जुलाइ्र या अगस्त में , 1934 और 1935 में अगस्त या सितम्बर में हुआ हो।
2. जिनका जन्म फरवरी 1932 से फरवरी 1935 , जनवरी 1962 से नवम्बर 1964 के मध्य या फरवरी 1991 से जनवरी 1994 के मध्य हुआ हो।
3. जिनका जन्म किसी भी वर्ष कुंभ राशि के अंतर्गत हुआ हो।




उपरोक्त समयांतराल में शनि के कारण लोग भिन्न-भिन्न संदर्भों की खुशी या कष्ट प्राप्त करेंगे। संदर्भ लग्नानुसार निम्न होंगे---
 मेष लग्नवाले-पिता ,समाज , पद ,प्रतिष्ठा , माता ,हर प्रकार की संपत्ति ,वाहन ,स्थयित्व , हर प्रकार का लाभ , मंजिल ।
 वृष लग्नवाले-भाग्य , संयोग , पिता ,समाज , पद ,प्रतिष्ठा , राजनीति , भाई ,बहन , बंधु-बांधव ,सहयोगी।
 मिथुन लग्नवाले-भाग्य , संयोग , जीवनशैली , रुटीन , धन ,कोष कुटुम्ब ,परिवार ।
 कर्क लग्नवाले-जीवनशैली , रुटीन , पति पत्नी , घर गृहस्थी ,दाम्पत्य ,ससुराल , शरीर ,व्यक्तिव , आत्मविश्वास।
 सिंह लग्नवाले-पति पत्नी , घर गृहस्थी ,दाम्पत्य , हर प्रकार के झंझट , प्रभाव ,बाह्य संबंध , खर्च ।
 कन्या लग्नवाले-बुद्धि ,ज्ञान ,संतान ,रोग ,ऋण ,शत्रु जैसे झंझट , प्रभाव , हर प्रकार का लाभ , मंजिल।
 तुला लग्नवाले-माता ,हर प्रकार की संपत्ति ,वाहन ,स्थयित्व , बुद्धि ,ज्ञान ,संतान ,रोग ,ऋण ,शत्रु जैसे झंझट , प्रभाव , पिता , समाज , पद , प्रतिष्ठा , राजनीति।
 वृिश्चक लग्नवाले- माता ,हर प्रकार की संपत्ति ,वाहन ,स्थयित्व , भाई ,बहन , बंधु-बांधव ,सहयोगी , भाग्य , धर्म ।
 धनु लग्नवाले- भाई ,बहन , बंधु-बांधव ,सहयोगी ,धन ,कोष , कुटुम्ब , परिवार ,जीवनशैली , रुटीन ।
 मकर लग्नवाले-धन ,कोष , कुटुम्ब , परिवार , शरीर ,व्यक्तिव , आत्मविश्वास , घर-गृहस्थी , दाम्पत्य , ससुराल।
 कुभ लग्नवाले-शरीर ,व्यक्तिव , आत्मविश्वास ,खर्च ,बाहरी संबंध , रोग ,ऋण ,शत्रु जैसे झंझट , प्रभाव ।
 मीन लग्नवाले-,खर्च ,बाहरी संबंध ,हर प्रकार का लाभ , मंजिल , बुद्धि ,ज्ञान ,संतान ।




शनि की यह स्थिति 13 दिसम्बर 2008 से 6 जून 2009 के मध्य तक बनीं रहेगी । शनि के प्रभाव की महत्वपूर्ण तिथियॉ होंगी---



13 , 14 , 17 , 18 , 19 , 29 , 30 , 31 दिसम्बर 2008 , 1, 2 , 13 , 14 , 15 , 25 , 26 , 27 , 28 , 29 , 30 जनवरी , 10, 11 , 22 , 23 , 24 , 25 , 26 फरवरी , 9 , 10 , 11 , 21 , 22 , 23 , 24 , 25 , मार्च , 6 , 7 , 16 , 17 , 18 , 19 , 20 , 21 , 22 अप्रैल , 3 , 4 , 15 , 16 , 17 , 18 , 19 , 30 , 31 मई , 1 , 6 , 7 , 8 , 11 , 12 , 13 , 14 , 15 जून 2009।



जिनका जन्म इन समय-अंतरालों से भिन्न समय पर हुआ हो, या जिन्हें अपने जन्मसमय की जानकारी नहीं हो, वे उपरोक्त महत्वपूर्ण तिथियों में अपनी मन:स्थिति के आधार पर शनि के गोचर की स्थिति के अपने उपर पड़नेवाले अच्छे या बुरे प्रभाव का मूल्यांकण कर सकते हैं।

13 टिप्‍पणियां:

SANJAY SINGH ने कहा…

ati avashyak evam sundar janakari upalabdh karane ke liye dhanyabaad.

परमजीत बाली ने कहा…

jaankaari ke lie dhanyavaad.

विवेक सिंह ने कहा…

हमारा तो भरोसा है नहीं ज्योतिष में . होता ही नहीं .

Manoshi ने कहा…

इस तरह की बिना सोचे समझे ज्योतिष के आधार पर भविष्यवाणी करना सिर्फ़ लोगों के मन में भय जगाना है। मैं इस पोस्ट की सराहना या समर्थन नहीं करती।

P.N. Subramanian ने कहा…

हम प्रभावित हो रहे हैं......शनि से!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत अच्छी लग रही है आप की बाते.
धन्यवाद

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

bahut hi sukshma jaankaari de rahi hai.n aap. jyotishi ki ABCD maine bhi sikhi hai...ek guru ki talash hai, jo dhaar laa sake. mujhe apni shishya banae.ngi...????

Alag sa ने कहा…

ज्ञानवर्धक लेख के लिए आभार।
कंचन जी की टिप्पणी हौसला बढायेगी।

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

अच्छी जानकारी दी है आपने संगीता जी ..

समयचक्र - महेद्र मिश्रा ने कहा…

सटीक बाते.धन्यवाद.

संगीता पुरी ने कहा…

संजय सिंहजी , परमजीत बाली जी , विवेक सिंह जी , मानोषी जी , सुब्रनियन जी , राज भाटिया जी ,कंचन सिंह ,अलग सा जी , रंजना जी , महेनद्र मिश्रा जी, मेरे ब्‍लाग पर आने , मेरे आलेखों को पढने , मेरे विचारों से अवगत होने और टिप्‍पणी करने के लिए बहुत बहुत धन्‍यवाद। अगले पोस्‍ट में ज्‍योतिष पर भरोसा दिलानेवाली कुछ सटीक बातें कही जाएंगी।

Poonam Agrawal ने कहा…

Aapka blog jankaariyo ka bhandaar hai....jiske liya dhanyavad.
Badhai swikaar kijiye.
Regards

Amit ने कहा…

sabse phele to aapka bahut bahut sukriya...aapne hamaare blog par aake o utsaah wardan kiya..

kaafi upyoogi baatein likhi hai aapne....par kya sahi main jyotishi hoti hai?
kya ham future ki baatein jaan sakte hain?