गुरुवार, 19 मार्च 2009

जिन पाठकों ने मुझे अपना जन्‍म विवरण भेजा है ....


कई वर्षों से इंटरनेट की उपभोक्‍ता होने के बावजूद 2007 के जून तक हिन्‍दी में ब्‍लागिंग किए जाने के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं थी , पर जुलाई में कादम्बिनी के एक लेख को पढने के बाद अगस्‍त 2007 में ही मैने वर्डप्रेस में अपना ब्‍लाग बना लिया था। शुरू शुरू में पुराने आलेखों को ही संक्षिप्‍त कर इसमें पोस्‍ट कर दिया करती थी। वर्डप्रेस के आलेखों में अधिकतर कमेंट्स अपना भविष्‍य पूछनेवालों के ही होते थे , पर बहुत दुख के साथ कहना पड रहा है कि उन दिनो एक खास तरह के काम में इतनी व्‍यस्‍त थी कि शायद ही किसी का जवाब दे पायी। फिर फरवरी 2008 के बाद तो कुछ दिन दोनो बच्‍चों की बोर्ड की परीक्षाओं और अप्रैल से ही कुछ खास झंझटों में ऐसी उलझी कि जुलाई तक परिवार के चारो सदस्‍य अपना अपना काम छोडकर अनिश्चितता की स्थिति में इधर उधर भटकते रहें। इस समय तो पाठकों के प्रश्‍नों का जवाब दे पाना किसी भी हालत में संभव नहीं था।

चार महीनों बाद अगस्‍त में जब फिर से सामान्‍य जीवन जीना आरंभ किया , तो वर्डप्रेस से विदाई लेकर ब्‍लागस्‍पाट में अपना ब्‍लाग बनाया । वैसे सर्च इंजिनों की अभी तक कृपा है कि मेरे उस ब्‍लाग में इस नए ब्‍लाग की अपेक्षा अधिक पाठक आते हैं। कुछ दिनों से चल रही अनिश्चितता भरे वातावरण को झेलने से हुए तनाव को भूलने के लिए मैं अब इंटरनेट को अधिक समय देने लगी। सितम्‍बर से नवम्‍बर के दौरान मैने पाठकों के जिज्ञासा भरे तमाम प्रश्‍नो के जवाब देने आरंभ किए , हो सकता है , इक्‍के दुक्‍के मेरी निगाह से ओझल भी रह गए हों। पर दिसम्‍बर के बाद पुन: व्‍यस्‍तता काफी बढ गयी और दिसम्‍बर 2008 से अबतक मैं शायद ही किसी पाठक को जवाब दे पायी । हां, इस दौरान मुझे प्राप्‍त हुए पाठको के जन्‍म विवरणों को अवश्‍य मैने अपने साफ्टवेयर में अवश्‍य डाल दिया है और वे अभी तक मेरे साफटवेयर के डेटाबेस में सेव रह गए हैं। मेरे लिए जरूरी सारी गणनाएं कम्‍प्‍यूटर के स्‍क्रीन पर आ जाती हैं और उन्‍हें देखते हुए पाठकों के प्रश्‍नों का जवाब देना कठिन नहीं ,पर उन्‍हें खोलकर देखना , उसे कापी में नोट करना, पुन: विंडों को बंद कर जीमेल खोलकर सबको जवाब लिखना , समयाभाव को देखते हुए कर पाना बहुत मुश्किल है।


इसलिए उन पाठकों से मेरा अनुरोध है , जिन्‍होने भी मेरे जीमेल पते पर अपना जन्‍मविवरण भविष्‍य की जानकारी के लिए भेजा है , वे 20 मार्च से 22 मार्च के मध्‍य 11 बजे दिन से लेकर 10 बजे रात्रि तक मुझसे मेरे फोन पर बात कर लें। याहू पते पर मिले जन्‍म विवरणों को मैने अभी तक अपने साफ्टवेयर में नहीं डाला है , इसलिए उसमें अपना विवरण भेजने वाले संपर्क न ही करें तो अच्‍छा रहेगा। मेरा फोन नं है ... 06542255102 , क्‍योंकि 22 मार्च के बाद पुन: कुछ दिनों तक आपलोगों को समय दे पाना मेरे लिए मुश्किल होगा।

7 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

हम तो भेज ही नहीं पाये, अब??

Arvind Mishra ने कहा…

और मेरा तो मन ही नहीं है !

राज भाटिय़ा ने कहा…

मुझे तो पता भी नही मेरा सही जन्म दिन, बस आंदाजे से ही चल रहा हुं, ओर मुझे इन सब का शोक भी नही, लेकिन आप काम बहुत अच्छा कर रही है,आप ने फ़ोन ना० तो दे दिया, कही बहुत ज्यादा विजी ना हो जाये...कि खाने का वक्त ही ना मिले.
धन्यवाद

RC Mishra ने कहा…

Ham aapko Phone Karenge..

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) ने कहा…

ज्योतिष को लेकर आपका सेवाकार्य प्रशंसनीय है।

cmpershad ने कहा…

अपनी व्यस्तताओं के बीच भी आप ब्लाग लिख पा रही हैं, यही बहुत बडी बात है। रही भविष्यवाणी की तो वह भविष्य बताएगा ही!

BABA ने कहा…

ब्लॉग लेखकों में रहकर भी आपका लेखन गंभीर और सर्व जनहिताय है.