सोमवार, 22 जून 2009

अनोनिमस जी , क्‍या किसी दूसरे दिन के आंधी पानी के भी इतने रिकार्ड आप उपलब्‍ध करा सकेंगे ?

इधर कुछ जरूरी कार्यों में व्‍यस्‍तता के काफी बढ जाने के साथ ही साथ मेरे ब्‍लाग में भी कुछ समस्‍या के भी आ जाने से पूरे 25 दिनों के बाद मैं यह पोस्‍ट लिख रही हूं। परसों ईमेल में अभिषेक जी का एक संदेश मिला कि कोई अनोनिमस जी आभासी तनाव देने के लिए मुझे ढूंढते हुए उनके पोस्‍टधर्म,विज्ञान और अन्धविश्वासपर आकर एक टिप्‍पणी दे गए हैं । मै उत्‍सुकतावश उनके पोस्‍ट पर गयी तो मुझे उनकी यह टिप्‍पणी मिली ....


"अभी मई के पहले सप्‍ताह में ही यह दावे से कहा जा सकता है कि 14-15 जून को इस बार मानसून का आरंभ बडे ही जोरदार तरीके से होगा , यानि भयंकर गर्जन और चमक के साथ आंधी , पानी , तूफान सब एक साथ आएंगे। इसका असर दो चार दिन पहले से भी देखा जा सकता है।
'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' ka eak aur dava jhutha nikla"

दरअसल 7 मई को अपने ब्‍लाग पर मैने एक आलेख भविष्‍यवाणी करना भी इतना आसान नहीं होतापोस्‍ट किया था , जिसमें ज्‍योतिष के आधार पर लगभग हर क्षेत्र की भविष्‍यवाणी की संभावनाओं के क्रम में मौसम से संबंधित एक भविष्‍यवाणी दी गयी थी। मौसम से संबंधित इन भविष्‍यवाणियों में विरले ही अपवाद आता है , इस कारण मैं बिल्‍कुल निश्चिंत थी । पर अनोनिमस जी की टिप्‍पणी ने मुझे वास्‍तव में सोंचने को मजबूर किया। व्‍यस्‍तता के बावजूद मैने गूगल न्‍यूज के सर्च में मौसम , बारिश आदि कीवर्ड को डालकर सर्च किया और अनोनिमस जी को जवाब देने के लिए टिप्‍पणी भी लिखा , पर पूरे दिन की कोशिश के बावजूद जब टिप्‍प्‍णी पोस्‍ट न हो सकी , तो उस टिप्‍पणी को अभिषेक जी को ईमेल करना पडा। आज अभिषेक जी और जाकिर जी ने भी कई बार कोशिश की , सामान्‍य सी समस्‍या थी , टिप्‍पणी लंबाई की वजह से पोस्‍ट नहीं हो रही थी , जिसका पता चलने पर अभिषेक जी ने इसके दो पार्ट करके इसे पोस्‍ट कर दिया । आप सभी भी पढ लें , मैने अनोनिमस जी को क्‍या जवाब दिया है ...


"अनोनिमसजी .. यह जानकर बहुत खुशी हुई कि आप इतने ध्‍यान से मेरी भविष्‍यवाणियों को पढते हें .. बहुत जल्‍द ही आप गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष को मानने लगेंगे .. क्‍योंकि मेरे पिताजी ने भी ज्‍योतिष के विरोध में ही पत्र पत्रिकाओं में लिखना शुरू किया था .. पर बाद में इसकी वैज्ञानिकता की झलक पा लेने से अपन पूरा जीवन इसी विषय पर समर्पित कर दिया .. व्‍यावसायिक तौर पर नहीं .. सिर्फ अध्‍ययन मनन तक ही सीमित रहे ये .. मैने अवश्‍य लिखा था कि "समूद्री तूफान या मैदानी चक्रवात के होने से पूरे भारतवर्ष के मौसम में अचानक परिवर्तन ला देने वाली घटना हर वर्ष छह आठ बार हुआ करती हैं।" .. और इसी आधार पर हमलोग मौसम की भविष्‍यवाणी करते है .. इसमें मानसून आने या न आने की कोई बात नहीं होती .. पर चूंकि मौसम विभाग के अनुसार जून के मध्‍य में मानसून आने की बात कही गयी थी .. इसलिए मैने लिखा कि "14-15जून को इस बार मानसून का आरंभ बडे ही जोरदार तरीके से होगा , यानि भयंकर गर्जन और चमक के साथ आंधी , पानी , तूफान सब एक साथ आएंगे। इसका असर दो चार दिन पहले से भी देखा जा सकता है।" अब आइला तूफान के अचानक आ जाने से इस मामले में मौसम विभाग का दावा गलत हो गया .. पर मेरा नहीं माना जा सकता .. क्‍योंकि 14-15 जून के के विशेष योग के प्रभाव से थोडे छोटे स्‍तर पर ही सही .. तीन चार दिन पहले से ही यानि 10 जून से लेकर 17 जून तक खासकर 14-15-16 जून तकमैदानी चक्रवात बनता रहा .. धूल धक्‍कड और आंधी तूफान के साथ पानी बरसात होती रही .. .. नहीं तो गूगल सर्च में मुझे इस दौरान के मौसम के इतने पन्‍ने कैसे मिल सकते थे .. यदि एक क्षेत्र में इतनी बात हो तो दूसरे क्षेत्र के न प्रभावित होने का प्रश्‍न ही नहीं है .. जरा आप भी नजर डालें ...


बारिश से सुकून, उमस से बेहाल
बूंदाबांदी से अच्छी बारिश की उम्मीद
बारिश से मौसम बना खुशगवार
अमरनाथ यात्रा मार्ग पर भूस्खलन में एक की मौत, पांच घायल
अमरनाथ यात्रा खराब मौसम के कारण रुकी
मानसून पूर्व गतिविधियों से अच्छी खासी बारिश
हाड़ौती में बारिश, गर्मी से राहत
उत्तर भारत में धूल भरी आंधी
गर्मी, आंधी और बारिश
अंधड़ ने मचाया आतंक ओले भी गिरे, पेड़ उखड़े
जमकर बरसेंगे बादल
बारिश के दौर के चलते शुरू हुई बुवाई
शहर में झमाझम, गांव भी भीगे
बारिश के साथ ओलों की बौछार
बरसे मेघा, मिली राहत
डेढ़ घंटे में 6 इंच बारिश
आंधी, बारिश और ओले
प्रदेशभर में अंधड़, ओले और बारिश
हवा में उड़ी छत, ढही दीवारें
अंधड़-बारिश ने बरपाया कहर अंचल में २ मासूम समेत ६ लोगों की मौत
सागर के बंगला पान पर मौसम की मार
अंधड़ ने मचाई तबाही
टीन-टप्पर उड़े वृक्ष धराशायी
जोधपुर के मथानिया कस्बे में बाढ जैसे हालात
देर रात अंधड़ व बारिश
उम्मीदों पर ओलावृष्टि
बारिश ने दी हिमाचल में गर्मी से राहत
रेत की आंधी, साए में शहर
बारिश से मिली राहत
भीगा भोपाल
आंधी ने की सब ओर बर्बादी
आसमान से बरसी राहत की बूंदे
आसमान में उड़े छप्पर
और ये रहा इनका वेब पता ....


http://www.bhaskar.com/2009/06/15/0906150817_comfort_from_the_rain_heat_from_behal.html
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=80458
http://www.bhaskar.com/2009/06/15/0906150203_rain_in_bhopal.html
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/punjab/4_2_5550696.html
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/jammuandkashmir/4_10_5554707.html
http://hindi.samaylive.com/news/22211/22211.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/16/0906160314_good_rain_in_madhya_pradesh.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/17/0906170216_hadhuti_in_the_rain_relief_from_the_heat.html
http://www.bhaskar.com/business/article.php?id=16951
http://www.bhaskar.com/2009/06/14/0906140356_rain_in_chooru.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/13/0906130731_threat_of_storm_and_downed_snowball_at_sagar.html
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=80255
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=80255
http://www.bhaskar.com/2009/06/17/0906170325_rain_in_ajmer.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/16/0906160724_rain_in_chooru.html
http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/4641680.cms
http://www.bhaskar.com/2009/06/15/0906150725_6_inch_and_a_half_hours_in_the_rain.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/16/0906160658_mansoon_in_pali.html
http://www.bhaskar.com/2009/06/14/0906140741_uri_air_in_the_roof_walls_dhi.html
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=80004
http://www.bhaskar.com/2009/06/16/0906160531_storm_in_kota.html
http://www.khaskhabar.com/showstory.php?storyid=3750
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=80053
http://pratahkal.com/index.php?option=com_content&task=view&id=79953
http://www.bhaskar.com/2009/06/14/0906140629_snow_fall_in_hanumangarh.html
http://hindi.samaylive.com/news/21579/21579.html


ज्‍योतिष को माननेवालों को जहां मेरा यह जवाब संतुष्‍ट करेगा .. वही ज्‍योतिष को न मानने वाले इसे थोथी दलील भी समझ सकते हें .. उनके लिए मै यही कह सकती हूं कि क्‍या किसी दूसरी तिथियों को भी इतने आंधी तूफान और बारिश हुए हैं ? जिसके बारे में इतने सटीक ढंग से इतने लिंक दिए जा सकते हैं ?

23 टिप्‍पणियां:

ओम आर्य ने कहा…

bahut mehanat likhi post ........behad rochak.......too good

P.N. Subramanian ने कहा…

सही में आपने बहुत मेहनत की है. आपको नमन.

बी एस पाबला ने कहा…

बढ़िया रहा जवाब।
तारीफेकाबिल मेहनत।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सचमुच किसी अनाम व्यक्ति के द्वारा की गयी टिप्पणी खुद को सवालों के घेरे में तो ला ही देती है. लेकिन आप निश्चिन्त रहें संगीता जी, हमें आपकी तमाम बातों पर भरोसा है. और अब उन अनाम महाशय को भी हो ही गया होगा.

मुसाफिर जाट ने कहा…

अजी ना मानने का तो सवाल ही नहीं है? आज इसीलिए खोली थी आपकी पोस्ट पर मौसम के बारे में पता चलेगा. और चल गया.

राज भाटिय़ा ने कहा…

संगीता जी जो है ही अनामी फ़िर उस के बारे इतना चिंतित होने की क्या अवशकता, आप का ज्योतिष दुसरे ज्योतिष से काफ़ी अलग है, ओर आप ने इतनी मेहनत की, फ़िर सही समय तो कोई भी नही बतला सकता,
लेकिन आप ने जबाब भी बहुत सयंम हो कर दिया, छोडिये इन अनामी सुनामी लोगो को, ओर मस्त रहे
धन्यवाद
मुझे शिकायत है
पराया देश
छोटी छोटी बातें
नन्हे मुन्हे

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

sateek...umda collections.

SWAPN ने कहा…

sangeeta ji , kaaphi din baad aapki post dekh achcha laga.

AlbelaKhatri.com ने कहा…

achhi baat !
umda post !

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

अच्छा मेहनत किया है आपनें .

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

एकदम सही उत्तर.........

अजय कुमार झा ने कहा…

इसे कहते हैं...सौ सुनार की एक लुहार की.....मुझे नहीं लगता की ऐसी जवाब के बाद किसी अनाम शनाम और नाम वाले की भी हिम्मत होगी ...हवा में कोई प्रश्न पूछने की....आभार..

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत दिनों बाद आपका लिखा हुआ पढ़ा ..सही जवाब

Abhishek Mishra ने कहा…

Sambhav hai 'Anami ji' apne chetra mein bhi mausam ki vahi ummid lagaye baithe honge, jaisi aapne bhavishyavani ki thi. Jaise ham bhi lagaye baithe hain, magar Banaras ka mausam to sari Vaigyanik aur Jyotishiya bhavishyavanion se pare hai. :-)

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

bahut achcchha, prabhavshali aur rochak prastuti. jyotish manne walon ke liye ek awashyak lekh.

Nirmla Kapila ने कहा…

saMgeetaaji bahut din baad aapase mulaakaat hui main to aapko ek hi sujhav doongee ki aap aisi baton ki ore dhian na de kar apana kaam karti rahen jise achha lage padhe jise nahin vo na padhe aap kyon time kharaab karati hain bahut badiya post hai aabhar

Udan Tashtari ने कहा…

आप तो निश्चिंत होकर अपना लेखन जारी रखें.

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

मानसून देर कर रहा है और परेशानी कम्पाउण्ड कर रही है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

अच्छा और सटीक ज़वाब दिया है।

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

bhut hi jordaar jabab aap in bato ki or dhyan naa de kar apne kaam me lagi rahe
saadar
praveen pathik
9971969084

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

सार्थक और लाज़बाब
धन्यवाद

vinay ने कहा…

sangeeta ji, mere vichar se pramanikta ke sath hi uttar dena chaiye,mhehnat ke sath accha pryas.

ghanshyam_astrologer ने कहा…

aapako sadhuvad jo aap ek mahan gyan yagya mai apani ahuti nisthapurvak de rahe hai.
aap dwara kiya gaya kaarya amar rahega aane wale samay mai aapko prathistha dilayega.
mai khud ek silent astrologer hu, jab mera prabadh jagega tab mujhe bhi duniya pahachanegi.
in fact aatama ka paritosh sabse bada purasakar hai.
salutes to urs astrological deeds
urs
gsr