गुरुवार, 25 जून 2009

मानसून के लिए और कितना इंतजार करना पडेगा हमें ????

उफ , ये गर्मी .. पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है अभी । पानी की किल्‍लत शुरू हो चुकी है , इंद्र देवता को प्रसन्‍न करने के लिए जगह जगह पूजा पाठ, भजन और कीर्तन तथा न जाने कितने टोने टोटके किए जा रहे हैं , पर कोई फायदा नहीं दिखाई पड रहा। मौसम वैज्ञानिक मानसून के आने की तिथियां आगे बढाते जा रहे हैं और जनसामान्‍य अनिश्चितता की स्थि‍ति में ही जी रहे हैं। मेरे पिछले पोस्‍ट को पढकर आप जान ही चुके हैं कि 14 - 15 जून को आंधी , पानी , तूफान का एक बडा योग था । इसलिए जब मौसम विभाग ने 8-10 जून तक मानसून के आने की भविष्‍यवाणी की तो मेरा दिमाग 14-15 जून पर ही टिका। पर इस दिन जगह जगह चक्रवात तो बने , बारिश भी आयी , अंधड भी चलें , पर मानसून नहीं आया। मौसम की इतनी महत्‍वपूर्ण तिथि हो और आशा के विपरीत मानसून न पहुच पाए , तो मानसून के आने को लेकर मेरा शक बना रहना स्‍वाभाविक था ,भले ही मौसम वैज्ञानिक मानसून के आने के बारे में 18-20-22 जून करते हुए तिथियां बढाते गए । लोग अभी तक मानसून का इंतजार कर रहे हैं , पर मानसून की तो बात छोड दें , भीषण गर्मी से लोगों का हाल बेहाल है।


ऐसी स्थिति में कुछ खास कार्यों में व्‍यस्‍तता और ध्‍यान बने होने के बावजूद भी आज मैने मानसून के आने की संभावना को तलाशते हुए अपनी विद्या का उपयोग करना आवश्‍यक समझा। यूं तो प्रकृति के नियमो को बदल पाना किसी के वश में नहीं , पर किसी बात की जानकारी भी हो जाए तो कम राहत नहीं महसूस होती है। गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष के अनुसार एक सूर्य का चक्र ही मौसम परिवर्तन का मुख्‍य जनक है ,यानि सूर्य के विभिन्‍न राशियों में परिवर्तन मात्र से ही , जो कि हर वर्ष नियमित तौर पर होता है , मौसम में नियमित तौर पर परिवर्तन देखा जाता है। पर मौसम कष्‍टकारक तब होता है , जब अन्‍य ग्रहों का साथ सूर्य को नहीं मिल रहा होता है। इसके विपरीत मौसम सुखदायक तब होता है , जब अन्‍य ग्रहों का साथ सूर्य को मिल रहा होता है। इस वर्ष मानसून आने में नियत समय से 15 दिनों की देरी हो गयी है , इसका अर्थ यह है कि अन्‍य ग्रहों का साथ सूर्य को नहीं मिल पा रहा है।


पंचांग में विभिन्‍न ग्रहों की स्थिति को गौर करने पर यूं तो अन्‍य वर्षों की तुलना में कुछ कम बारिश की संभावना दिखाई पडी , पर इसके बावजूद बहुत निकट ही मानसून की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता। 29 जून से ही सूर्य के सापेक्ष सभी ग्रहों की तालमेल वाली स्थिति से मौसम सुहावना हो जाना चाहिए । इसके पहले ही मानसून आ जाए तो और अच्‍छी बात है , पर 29 जून के बाद देश के अधिकांश हिस्‍सों में किसानों के लिए सुखदायक स्थिति बन जानी चाहिए। बारिश का क्रम बढता हुआ 3-4 जुलाई तक काफी जोरदार रूप ले लेगा । और यदि ऐसा हुआ तो फिर जुलाई के तीसरे सप्‍ताह तक लगभग निरंतर बारिश होती रहेगी। और यदि मेरी यह भविष्‍यवाणी गलत हुई , जिसकी संभावना भी कुछ हद तक है , तो इस वर्ष स्थिति के भयंकर होने से इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए सब मिलकर ईश्‍वर से प्रार्थना करें कि 29 जून से 4 जुलाई तक जोर शोर की बारिश हो।

26 टिप्‍पणियां:

नीरज गोस्वामी ने कहा…

हम मानसून के आने की इस भविष्य वाणी की सफलता की कामना करते हैं...खोपोली जहाँ मानसून हमेशा सात जून को दस्तक देता था अभी तक नहीं आया है हाँ परसों से छिटपुट वर्षा शुरू तो हो गयी है लेकिन झमाझम नहीं...
गरज बरस प्यासी धरती को तू पानी दे मौला....
नीरज

Nirmla Kapila ने कहा…

संगीताजी बहुत बहुत धन्यवाद आपकी भविश्य्वाणी सही हो गर्मी से बुरा हाल है आभार्

Arvind Mishra ने कहा…

हे इश्वर आपकी भविष्यवाणी सच हो जाय

दीपक भारतदीप ने कहा…

हां, मुझे याद है जब पिछली बार अपने अच्छी वर्षा की भविष्यवाणी की थी। वह सही निकली। आपकी बात पर मैंने भी दोस्तों के सामने यह दावा किया था कि इस बार अच्छी बरसात होगी। इस बार आपकी ऐसी ही पोस्ट का इंतजार था। इससे आशा बंधी है। धन्यवाद आपने कुछ चिंता कम कर दी।
दीपक भारतदीप

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

हम सब तो यही चाहते है जल्दी आए,पर लगता नही,मानसून के लिए अब इंतज़ार ही करना पड़ेगा,अब कितना ये तो उपर वाला ही जाने..

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

आज ही महाराष्ट्र के समुद्री तट पर मेघराज के पहुंचने की खबर है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर, आप की भविष्यबानी सच हो जाये.
धन्यवाद

मुसाफिर जाट ने कहा…

आज की पोस्ट पढ़कर मन में ठंडक सी पड़ गयी. काफी दिन से सोच रहा था कि संगीता जी इस बारे में जल्दी ही लिखेंगी. चलो बढ़िया है.

अरुण पालीवाल ने कहा…

आपकी भविष्यवाणी सच हो >>>>>>>>>>

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

लाला अमरनाथ की कमेण्ट्री याद आ गयी।

Rachna Singh ने कहा…

aap nirantar is par apni raay daeti rahey
thanks
rachna

रंजन ने कहा…

बारिश आ जाये ये ही बहुत है... शुक्रिया..

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

आपके भविष्यवाणी का स्वागत है ,वैसे अनुमान है की १० जुलाई के आस-पास मानसून अच्छी बारिश देगा .

Udan Tashtari ने कहा…

जल्दी आये भई..अब बहुत हुआ. कितना परेशान हो गये हैं लोग!!

AlbelaKhatri.com ने कहा…

aapka kaha sach ho
badhaai !

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

This is a Good news Sangeeta ji

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

अच्छी सूच्ना दी है आपने बारिश का तो इन्तजार है अब

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

aap ki bhavishyavani sahi hone me hi sabki bhalai hai.

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) ने कहा…

इसलिए सब मिलकर ईश्‍वर से प्रार्थना करें कि 29 जून से 4 जुलाई तक जोर शोर की बारिश हो.. हम तो पुरज़ोर प्रार्थना कर रहे हैं.. आपकी भविष्यवाणी सही साबित हो.. आभार

CARTOON TIMES by-manoj sharma Cartoonist ने कहा…

intzar kab tak
janne ke liye my blog clik karen

cartoonist anurag ने कहा…

garmi se halat kharab ho rahi hai.....
aaj mansoon par cartoon banaunga jaroor dekhiyega........

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

मुझे यक़ीन है.. बारिश आएगी...

Abhishek Mishra ने कहा…

Bhagwan aapki bhavishyavani satya siddh karein, magar mausam ko lekar Banaras aapki bhavishvaniyon ki range se bahar hi rahega iski puri aasha hai.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

भविष्यवाणी के द्वारा एक अच्छी खबर दी आपने।
धन्यवाद।

अल्पना वर्मा ने कहा…

आज २९ जून को ही टी वी पर देखा..दिल्ली में बारिश की खबर थी..और मौसम विभाग भी कह रहा है की अगले ४८ घंटों में बारिश और होगी..
५ जुलाई तक मानसून आ जाने की बात पंडित वत्स जी भी कह रहे थे.
बधाई..

cartoonist anurag ने कहा…

ek cartoon banaya hai pita putri k rishte par....
aapke amoolya vicharon ka intzar rshegs...
http://csrtoonist-anurag.blogspot.com