सोमवार, 26 अक्तूबर 2009

क्‍या रेमिंगटन कीबोर्ड पर टाइपिंग करने में आपको परेशानी होती है ??

अपने कंप्‍यूटर में Baraha IMEया Hindi Indic IME.को लोड करने और हिन्‍दी सक्रियकरने के बाद मुख्‍य समस्‍या हिन्‍दी में टाइपकरने की आती है। इस समस्‍या का कोई समाधान न दिखने से अधिकांश लोगों को फोनेटिक कीबोर्ड का सहारा लेना पडता है , जिसके द्वारा रोमण में ही लिखने से उसे हिन्‍दी में कन्‍वर्ट किया जा सकता है। लेकिन आप यदि डायरेक्‍ट हिन्‍दी में ही लिखना चाहते हों , तो आपको रेमिंगटन कीबोर्ड पर टाइपिंग कर सकते हैं। अंग्रेजी कैरेक्‍टरों को देखकर हिन्‍दी में टाइपिंग करना बहुत ही आसान है। चाहे जो भी कारण हो , एक महीने के अंदर मैं जितनी आसानी से हिन्‍दी टाइपिंग करने लगी , शायद अंग्रेजी में संभव नहीं थी।

कीबोर्ड की पहली पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप होते हैं ......
`  1  2  3  4  5  6  7  8  9  0  -  =    (NORMAL)

यदि कीबोर्ड की इस पहली पंक्ति की हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं
़  1  2  3  4  5  6  7  8  9  0  ;  ृ   (NORMAL)

 शिफ्ट के साथ कीबोर्ड की पहली पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप होते हैं ......
~  !  @  #  $  %  ^  &  *  (  )  _  + (WITH SHIFT)

यदि शिफ्ट के साथ कीबोर्ड की इस पहली पंक्ति की हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
द्य  ।  /  :  *   -  ‘  ‘  द्ध  त्र  ऋ  .  ् (WITH SHIFT)

उसके नीचे यानि दूसरी पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप  किए जाते हैं ......
q  w  e  r  t  y  u  I  o  p  [  ]  \   (NORMAL)

जबकि दूसरी पंक्ति में हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
ु  ू   म  त  ज  ल  न  प  व  च  ख्‍  ,  (NORMAL)

पर यदि  उसी दूसरी लाइन की शिफ्ट के साथ टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं ....
Q  W  E  R  T  Y  U  I  O  P  {  }   (WITH SHIFT) 

पर उसी दूसरी लाइन की शिफ्ट के साथ हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
फ   ॅ   म्‍    त्‍   ज्‍   ल्‍   न्‍   प्‍   व्‍   च्‍   क्ष्‍   द्व   )     (WITH SHIFT)

तीसरी पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप होते हैं ......
a    s    d    f    g    h    j    k    l    ;     ‘           (NORMAL)

जबकि उस तीसरी पंक्ति में हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
ं   े    क    ि‍   ह   ी     र ा     स   य    श्‍                (NORMAL)

अब यदि इसी तीसरी पंक्ति को शिफ्ट के साथ टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
 A    S    D    F    G    H    J    K    L    :    “      (WITH SHIFT)

पर उसी तीसरी पंक्ति को शिफ्ट के साथ हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
 ा  ै  क्‍    थ्‍    ळ    भ्‍    श्र   ज्ञ   स्‍    रू     ष्‍              (WITH SHIFT)

अंतिम पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप होते हैं .....
z      x     c     v     b     n     m     ,     .     /    (NORMAL)

यदि कीबोर्ड की इस अंतिम पंक्ति की हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
्र  ग    ब    अ     इ    द      उ    ए    ण्‍    ध्‍          (NORMAL)

शिफ्ट के साथ कीबोर्ड की पहली पंक्ति में सामान्‍य तौर पर ये सारे टाइप होते हैं ......
 Z    X    C    V    B    N    M    <    >    ?     (WITH SHIFT)

पर उसी तीसरी पंक्ति को शिफ्ट के साथ हिन्‍दी में टाइपिंग की जाए तो ये सारे टाइप होते हैं .....
 र्    ग्‍     ब्‍     ट     ठ   छ     ड     ढ   झ    घ्‍         (WITH SHIFT)

हिन्‍दी में मुख्‍य शब्‍दों की टाइपिंग के लिए मैने ये कई शब्‍दों को याद रखा ....
मई , तर , जट , लवाई , न्‍यू , पाई , वओ ,चप , फक्‍यू , कडी , हजी ,रजे ,सएल , गक्‍स ,बसी , अटवी , इठबी ,दछन , डउम

इन शब्‍दों को याद कर लेने से शुरूआती दौर में बार बार कागज देखने से बचा जा सकता है। आधा या पूरा जो भी 'म' टाइप करना हो, मई मतलब 'E' बटन, इसी तरह पूरा या आधा 'त' के लिए 'R' बटन पूरा या आधा 'ज' के लिए 'T' बटन। इसी तरह 'अ' या 'ट' टाइप करना हो , तो 'V' तथा 'इ' और 'ठ' टाइप करना हो , तो 'B' बटन का सहारा लिया जा सकता है। ऐसा करने से बहुत आसानी हो जाती है। ा का बटन , ु और ू , ि‍ और ी  तथा े और ै के बटन की स्थिति इतनी अच्‍छी जगह पर है कि इन्‍हें याद रख लेना तो बहुत आसान है ही। अब इतने बटनों को जानने के बाद टाइपिंग के दौरान कभी कभार ही नए शब्‍द आएंगे , जिसके लिए आप उपरोक्‍त कागज की एक प्रिंट बनाकर रखें रहें। दो चार दिनों के प्रैक्टिस से सारे बटन का आइडिया होना ही है। देखा रेमिंगटन में टाइपिंग कितनी आसान हो गयी ।




18 टिप्‍पणियां:

ajit gupta ने कहा…

संगीता जी
बहुत मेहनत से पोस्‍ट तैयार की है, बधाई। लेकिन हम तो रेमिंगटन पर ही टाइप कर लेते है। बहुत पुरानी आदत है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप की बात से सहमत हुं, पहले पहल मुश्किल होती थी अब तो नही... धन्यवाद

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

बेहतरीन संगीता जी। इंडिक टूल डालने के लिए अब तो नुक्‍कड़ पर स्‍नैपशाट के साथ पूरी एक पोस्‍ट मौजूद है। उससे भी इंडिक टूल इंस्‍टालेशन संबंधी सब जानकारी सभी ले सकते हैं http://nukkadh.blogspot.com/2009/09/blog-post_22.html

AlbelaKhatri.com ने कहा…

धन्यवाद इस काम की जानकारी के लिए.........
अच्छा लगा

संगीता पुरी ने कहा…

अविनाश वाचस्‍पति जी ,
मैने आपके दिए लिंक को भी इस पोस्‍ट में डाल दिया है !!

बी एस पाबला ने कहा…

एक और जानकारीपरक पोस्ट।

आभार

बी एस पाबला

Udan Tashtari ने कहा…

एक मेहनती पोस्ट...

M VERMA ने कहा…

मुश्किले जब हल हो गयी तो समाधान आया.
अब तो आदत हो गयी है
बहुत अच्छी पोस्ट उपयोगी भी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी दी है आपने।
पहले मैं इसी का प्रयोग करता था, मगर इसे यूनिकोड में बदलना पड़ता था।
अब यूनिकोड की-बोर्ड याद कर लिया है तो सीधे ही
लाइव राइटर का इस्तेमाल करता हूँ।
अब यूनिकोड से ही टाइप करके टिप्पणी करता हूँ और इसी से पोस्ट भी लगाता हूँ।
आभार!

निर्मला कपिला ने कहा…

वाह ये तो बहुत अच्छी जानकारी दी आपने कोशिश करते हैं धन्यवाद्

Vivek Rastogi ने कहा…

हम तो बाराह यूनिकोड से लिखते हैं बहुत आसान है। बहुत मेहनत से ये पोस्ट लिखी है आपने, मील का पत्थर साबित होगी।

pankaj vyas ने कहा…

labhaprada jankari...

Murari Pareek ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति संगीताजी |मैं कभी की बोर्ड से हिंदी टाइप नहीं कर पाया शब्द धुन्धने का समय नहीं है आपने इस आलसी मुरारी के लिए इतनी मेहनत की धन्यवाद में कॉपी करके रख रहा हूँ !!

वाणी गीत ने कहा…

धन्यवाद संगीताजी ...आपने बहुत बड़ी मुश्किल आसान कर दी ...!!

PD ने कहा…

सच्ची बात कहूं तो मुझे जो भी हिंदी में टाईपिंग आती है वो भी इस पोस्ट को पढ़ने के बाद भूलने का दावा करता हूं.. (मजाक कर रहा हूं सो मजाक में ही लें..) :)

बहुत बढ़िया लेख.. वैसे मुझे भी इस तरह की टाईपिंग आती है.. :)

vinay ने कहा…

अच्छी जानकारी देती हुई पोस्ट,मै तो बारह का उपयोग करता हूँ,बहुत मेहनत की आपने ।

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

. मैं भी अब यूनिकोड ही इस्तेमाल करती हूँ पर अच्छी जानकारी है ।

महेश कुमार वर्मा : Mahesh Kumar Verma ने कहा…

टाईपिंग इंस्टीट्यूट में टाइपिंग सीखाने में इसी का उपयोग किया जाता है। टाईप राइटर भी इसी तरह का होता है। मैं सीखा भी हूँ और कर भी लेता हूँ। पर अब नेट पर या फेसबूक में लिखने में रोमन हिन्दी से ही देवनागरी लिखता हूँ।