शनिवार, 26 दिसंबर 2009

क्‍या आप इन दिनों बुध ग्रह के प्रभाव को महसूस कर रहे हैं ??

17 दिसंबर 2009 से ही आसमान में पृथ्‍वी से खास कोणिक दूरी बनाता बुध ग्रह बहुत ही प्रभावी हो गया है। चूंकि ज्‍योतिष में बुध ग्रह बुद्धि , ज्ञान का ग्रह माना जाता है , इसलिए यह विद्यार्थियों और बौद्धिक श्रम करनेवाले लोगों को ही अधिक प्रभावित करता है। इसकी यह स्थिति 31 जनवरी तक बनीं रहेगी , जिसके कारण बुद्धिजीवी वर्ग खास सकारात्‍मक कार्यों में उलझे रह सकते हैं। वैसे 29 दिसंबर से 12 जनवरी तक का समय इनके कार्यक्रम में थोडी सुस्‍ती लानेवाला होगा। वैसे तो अधिकांश लोगों पर इसका अच्‍छा ही प्रभाव देखा जाएगा , पर कुछ विद्यार्थी , जिनकी  जन्‍मकुंडली में बुध ग्रह कमजोर होकर स्थित है , और इसके कारण वे विद्यार्थी जीवन में मनोनुकूल वातावरण का अभाव पा रहे हैं , की समस्‍या इस वक्‍त थोडी और गहरा सकती है। ऐसे विद्यार्थियों , जिनका जन्‍म निम्‍न तिथियों में हुआ है , अपने कार्यक्रम में बाधा महसूस कर सकते हैं ....

  • 1986 में 12 मार्च से 17 मार्च , 15 जुलाई से 31 जुलाई , 7 नवंबर से 19 नवंबर , 
  • 1987 में 24 फरवरी से 11 मार्च , 26 जून से 12 जुलाई , 22 अक्‍तूबर से 3 नवम्‍बर , 
  • 1988 में 7 फरवरी से 21 फरवरी , 6 जून से 22 जून, 4 अक्‍तूबर से 17 अक्‍तूबर, 
  • 1989 में 21 जनवरी से 3 फरवरी , 18 मई से 2 जून , 17 सितंबर से 1 अक्‍तूबर, 
  • 1990 में 6 जनवरी से 17 जनवरी , 28 अप्रैल से 14 मई , 31 अगस्‍त से 15 सितंबर , 20 दिसंबर से 31 दिसंबर, 
  • 1991 में 10 अप्रैल से 25 अप्रैल , 13 अगस्‍त से 29 अगस्‍त , 4 दिसंबर से 9 दिसंबर ,
  • 1992 में 22 मार्च से 6 अप्रैल , 25 जुलाई से 10 अगस्‍त , 16 नवंबर से 28 नवंबर, 
  • 1993 में 6 मार्च से 20 मार्च , 7 जुलाई से 23 जुलाई , 1 नवंबर से 12 नवंबर, 
  • 1994 में 16 फरवरी से 2 मार्च , 18 जून से 4 जुलाई , 14 अक्‍तूबर से 27 अक्‍तूबर , 
  • 1995 में 31 जनवरी से 13 फरवरी , 29 मई से 14 जून , 27 सितंबर से 11 अक्‍तूबर, 
  • 1996 में 15 जनवरी से 27 जनवरी , 9 मई से 25 मई , 9 सितंबर से 21 सितंबर, 
  • 1997 में 1 जनवरी से 10 जनवरी , 20 अप्रैल से 6 मई , 23 अगस्‍त से 6 सितंबर, 13 दिसंबर से 24 दिसंबर,   

कुछ लोगों के लिए यह ग्रह स्थिति विशेष तौर पर फलदायक भी हो सकती है। किसी संयोग के काम करने से वे किसी महत्‍वपूर्ण कार्यक्रम से जुड सकते हैं । 1926 , 1933 , 1939 , 1946 , 1952 , 1953 , 1959 , 1966 , 1972 , 1979 , 1985 , 1986 , 1992 , 1998 , 1999 और 2005 के जुलाई और अगस्‍त में जन्‍म लेनेवाले इन दिनों में किसी मामले में मनोनुकूल माहौल में रहेंगे। इसके साथ ही कर्क राशि में जन्‍म लेनेवालों के लिए भी बुध ग्रह की यह स्थिति किसी संदर्भ में मनोनुकूल होगी।

पर कुछ लोगों के लिए  यह ग्रह स्थिति विशेष तौर पर कष्‍टदायक भी हो सकती है। किसी दुर्योग से उनका जीवन बाधित हो सकता है। 1923 , 1929 , 1930 , 1936 , 1942 , 1949 , 1956 , 1962 , 1969 , 1975 , 1982 , 1988 , 1989 , 1995 , 2001 और 2008 के मई जून में जन्‍म लेने वालों के समक्ष इन दिनों में किसी मामले में मनोनुकूल स्थिति का अभाव हो सकता है। इसके साथ ही वृष राशि में जन्‍म लेनेवालों के लिए भी बुध ग्रह की यह स्थिति किसी संदर्भ में परेशानी उपस्थि‍त कर सकती है।

वैसे इस 'अच्‍छे' या 'बुरे' समय को आप किसी बडी उपलब्धि या बडे नुकसान से न जोड लें , क्‍यूंकि ये अस्‍थायी तौर पर आनेवाला ग्रहयोग है और कोई अच्‍छा या बुरा बडा निर्णय तभी होगा , जब आपकी जन्‍मकुंडली के हिसाब से स्‍थायी तौर पर कोई बडी सफलता या असफलता इस समय मिलनी होगी। पर यदि जन्‍मकुंडली के हिसाब से आपका कोई बडा अच्‍छा या बुरा योग न हो , तो इस ग्रहयोग के कारण डेढ महीने'अच्‍छा' होने के किसी भ्रम में या 'बुरा' होने के संशय में गुजार देंगे।









17 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

:)

Rekhaa Prahalad ने कहा…

'अच्‍छा' होने के किसी भ्रम में या 'बुरा' होने के संशय में गुजार देंगे' saari jindagi isi bhram me gujar jaati hai.

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत बढ़िया विचारणीय जानकारी .....

कमल शर्मा ने कहा…

अच्‍छी जानकारी दी आपने।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जनकारी, देखे क्या होता है?
आप का धन्यवाद

निर्मला कपिला ने कहा…

संगीता जी जमे तो चिन्ता मे डाल दिया। 1949 ? चलो देखते हैं धन्यवाद इस जानकारी के लिये

डॉ टी एस दराल ने कहा…

चिंता की कोई बात नहीं, आप बस कर्म करते रहें।
अच्छी जानकारी के लिए आभार।

Mithilesh dubey ने कहा…

संगीता जी चरण स्पर्श

मेरे बारे में भी कुछ बतायें , कहीं शनी ग्रह तो नहीं चल रहा । हमेशा की तरह एक बार फिर आपने सार्थक लेख सामने रखा । आभार

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

आपके लेखों में की गई मेहनत मुझे सबसे अधिक प्रभावित करती है.

मनोज कुमार ने कहा…

अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

Aadarsh Rathore ने कहा…

मुझपर दुष्प्रभाव पड़ता तो दिख रहा है...।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत अच्छी और उपयोगी जानकारी!

Udan Tashtari ने कहा…

नोट कर लिया.

Anil Pusadkar ने कहा…

बहुत दिनो बाद इधर आया,अच्छी जानकारी मिली।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

नोट करके रख लिया है, देखते हैं क्या प्रभाव होता है.

रामराम.

ज्ञानदत्त पाण्डेय G.D. Pandey ने कहा…

इन तिथियों में तो नहीं फंसता मैं पर चकाचक नहीं चल रहा समय। :(

vinay ने कहा…

विद्यार्थीयों को अच्छी जानकारी के साथ,उपयोगी सन्देश ।