सोमवार, 8 मार्च 2010

मदद करने वाले हाथ प्रार्थना करने वाले होंठो से अच्छे होते हैं .. आप 1098 (केवल भारत में )पर फ़ोन करें !!

रोजाना जो खाना खाते हो वो पसंद नहीं आता ? उकता गये ? 
............ ... ........... .....थोड़ा पिज्जा कैसा रहेगा ? 
www.kute-group.blogspot.com

नहीं ??? ओके ......... पास्ता ? 

नहीं ?? .. इसके बारे में क्या सोचते हैं ?

www.kute-group.blogspot.com
आज ये खाने का भी मन नहीं ? ... ओके .. क्या इस मेक्सिकन खाने को आजमायें ? 

www.kute-group.blogspot.com

दुबारा नहीं ? कोई समस्या नहीं .... हमारे पास कुछ और भी विकल्प हैं........ 
    
ह्म्म्मम्म्म्म ... चाइनीज ????? ?? 

www.kute-group.blogspot.com
बर्गर्सस्स्स्सस्स्स्स ? ??????? 

www.kute-group.blogspot.com
ओके .. हमें भारतीय खाना देखना चाहिए ....... 
  ? दक्षिण भारतीय व्यंजन ना ??? उत्तर भारतीय ? 
www.kute-group.blogspot.com
जंक फ़ूड का मन है ? 

www.kute-group.blogspot.com


हमारे  पास अनगिनत विकल्प हैं ..... .. 
  टिफिन  ? 

www.kute-group..blogspot.com
मांसाहार  ? 

www.kute-group.blogspot.com
ज्यादा मात्रा ? 

www.kute-group.blogspot.com
या केवल पके हुए मुर्गे के कुछ  टुकड़े ?
आप इनमें से कुछ भी ले सकते हैं ... या इन सब में से थोड़ा- थोड़ा  ले सकते हैं  ...

अब शेष  बची मेल के लिए  परेशान मत होओ....



मगर .. इन लोगों के पास कोई विकल्प नहीं है ...
 
www.kute-group.blogspot.comwww.kute-group.blogspot.comwww.kute-group.blogspot..com   www.kute-group..blogspot.com
इन्हें तो बस थोड़ा सा खाना चाहिए ताकि ये जिन्दा रह सकें ..........  



इनके बारे में  अगली बार तब सोचना जब आप किसी केफेटेरिया या होटल में यह कह कर खाना फैंक रहे होंगे कि यह स्वाद नहीं है !! 

www.kute-group.blogspot.com


इनके बारे में अगली बार सोचना जब आप यह कह रहे हों  ... यहाँ की रोटी इतनी सख्त है कि खायी ही नहीं जाती.........

www.kute-group.blogspot.com

कृपया खाने के अपव्यय को रोकिये 
 
अगर आगे से कभी आपके घर में पार्टी / समारोह हो और खाना बच जाये या बेकार जा रहा हो तो बिना झिझके आप 
 1098 (केवल भारत में )पर फ़ोन करें  - यह एक मजाक नहीं है - यह चाइल्ड हेल्पलाइन है । वे आयेंगे और भोजन एकत्रित करके ले जायेंगे 
कृप्या इस सन्देश को ज्यादा से ज्यादा प्रसारित करें इससे उन बच्चों का पेट भर सकता है 
 
कृप्या इस श्रृंखला को तोड़े नहीं ..... 

हम चुटकुले और स्पाम मेल अपने दोस्तों और अपने नेटवर्क में करते हैं ,क्यों नहीं इस बार इस अच्छे सन्देश को आगे से आगे मेल करें ताकि हम भारत को रहने के लिए दुनिया की सबसे अच्छी जगह बनाने में सहयोग कर सकें - 
  
'मदद करने वाले हाथ प्रार्थना करने वाले होंठो से अच्छे होते हैं ' - हमें अपना मददगार हाथ देंवे 

सभी मित्रों को आगे से आगे यह सन्देश भेजें …

एक मित्र के द्वारा मुझे यह ईमेल संदेश भेजा गया , इसके प्रचार प्रसार के लिए मेरे ब्‍लॉग से उपयुक्‍त जगह क्‍या हो सकती थी , आप भी इसे अपने मित्रों को फॉरवार्ड करें !!

22 टिप्‍पणियां:

Mithilesh dubey ने कहा…

बहुत खूब कही आपने ।

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Sangeeta ji ye common mail jab pahli baar aayi thi to dekh kar laga ki baat sahi hai.. lekin baad me pata chala ki bhejne wala uske kuchh din baad hi apni mammy se sabzi achchhi na hone ki wajah se jhagad gaya.. :)

Tej Pratap Singh ने कहा…

bilkul sahi...

खुशदीप सहगल ने कहा…

संगीता जी,

फोटो नहीं दिख रहे...

बाकी इसी देश में फाइव स्टार स्कूलों के बच्चे फास्ट फूड खा-खाकर फल-फू.......ल रहे हैं...उस देश में जहां बच्चों की आधी से ज़्यादा आबादी कुपोषित है...

सार्थक मुद्दे की ओर ध्यान दिलाने के लिए आभार...

जय हिंद...

Dr. Smt. ajit gupta ने कहा…

संगीता जी
फोटो तो नहीं खुले, लेकिन लिफाफा देखकर मजमून भांप गए। बहुत ही अच्‍छी पोस्‍ट। आज तो सुबह से ही अच्‍छी पोस्‍ट पढ़ने को मिल रही है। आपको बधाई।

Udan Tashtari ने कहा…

फोटो तो नहीं दिखे लेकिन यह ईमेल संदेश मुझे भी प्राप्त हुआ था तो जान पाया...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बहुत अच्छा प्रयास है.

वन्दना ने कहा…

mere pass bhi aayi thi ye mail aur maine kafilogon ko forward ki thi aapka prayas bhi badhiya hai.

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर संदेश,धन्यवाद

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सार्थक सन्देश । आज इसी की ज़रुरत है।

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

बेहतरीन और सार्थक.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति!

नारी-दिवस पर मातृ-शक्ति को नमन!

rashmi ravija ने कहा…

यह मेल मुझे भी मिला था...आपने बहुत अच्छा किया इसे ब्लॉग जगत से शेयर किया....ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह बात पहुँच सकेगी...शुक्रिया

vinay ने कहा…

अच्छा सन्देश ।

Nilesh ने कहा…

sangita ji kripya apane blog me childline ka webaddress bhi de.
http://www.childlineindia.org.in/
Avam swyam tathyo ki jaanch kare.
yahan me spasht karana chaahunga ki yeh bhramak email, childline ke achche prayaaso ko nicha dikhane ke liye kisi dusht vyakti ne banaya hai.
Childline ka numbar pan indian hai par yeh har shahar me maujood nahi hai

Nilesh ने कहा…

sangita ji kripya apane blog me childline ka webaddress bhi de.
http://www.childlineindia.org.in/
Avam swyam tathyo ki jaanch kare.
yahan me spasht karana chaahunga ki yeh bhramak email, childline ke achche prayaaso ko nicha dikhane ke liye kisi dusht vyakti ne banaya hai.
Childline ka numbar pan indian hai par yeh har shahar me maujood nahi hai

Dr. Pundir ने कहा…

I called 1098 and found its not a collection service. It is a child helpline.

Nilesh ने कहा…

Sangeetaji avam Dr. Pundir;
Kripya mere drwara preshit link par jakar apane bram dur kar lewe. sangeetaji mera aapse vinmra anurodh hai ki ya to apani post me sudhaar kare ya ise puri tarah se hata de. childline is to help childrens aur ise collection service bana kar aap unka amulya samay vyarth ke khandan me nasht kar rahe hai.
Nilesh

Nilesh ने कहा…

Mujhe dukh honga agar meri yah tippani prakaashit hui to. Had karti hai aap sangitaaji.
meri tippani to prakashit kar deti hai kintu koi action nahi leti. Lagata hai aap sirf aur sirf bhagya me vishwaas rakhti hai karm karne me aapki koi ruchi nahi hai.

संगीता पुरी ने कहा…

नीलेशजी,
मैं आपकी बात समझ नहीं पा रही हूं .. मेरे वेबसाइट में इस पोस्‍ट के रहने या हटा देने से कोई अंतर नहीं पडने वाला .. अभी भी प्रतिदिन लाखों लोगों के पास ये ईमेल पहुंच रहा है .. मेरे अलावे कई अन्‍य लोगों ने भी इसे अपने ब्‍लॉग में डाला है .. ये चाइल्‍ड हेल्‍पलाइन है तो इसे रहने देने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए !!

Nilesh ने कहा…

Aadarniya mahodyaa;
Meri purva Tippani na dalkar aapne sidhe prashn puchha iske liye dhanyavaad;
kshama chahunga lekin me sirf aapke blog par hi nahi balki anaya blog par bhi jahan ye post dekhta hun aawaj uthata hun. Yadi hum yeh soch kar baith jaaye ki haamre ek paiD lagana se kuch nahi honga to dharti ka vinaash nishchit hai, iske ulte agar hum sab yeh sochne lage ki ek paudha ukhadane se prakrti par koi prabhaav nahi padega to kal hi pralay aa jaayegi.
Ab me lautunga is baat par ki child help line par phone karna kyon galat hai. Childline hamaare aur aapke phone karne ke liye nahi banaai gai hai, balki yeh un beghar aur besahaara bachcho ke phone karne ke liye banaai gai hai jinhe puchne wala koi nahi hai,yeh unki mulbhut aawashyakta ki purti karne ke liye hai jinhe dekhkar tathakathit sabhya samaaj nak bho sikodta hai.
Kalpana kijiye ki koi bikh maagane wala bachcha kisi tarah se public phone se is numbar par phone karta hai, uske saathi ki maut ho gai hai antim sanskaar karna hai, par jab bhi voh bechaara kisi tarah himmat juta kar phone tak pahuch paata hai(jayaadatar aise bachcho ko dutkaar kar dur hi rakha jaata hai). Par haay ri kismat jab bhi use mauka milta hai childline busy milati hai kyonki koi hamaare aur aapake jaisa vayakti us par bhojan dene ki baat kar raha hota hai!!!!!!!!!!!!!!!!!!
Yadi aisi sthiyon me use ek baar bhi childline busy milti hai, to mai use ghanghor apraadh maanunga, me apni naitik jimmedaari nibha raha hun aap chaahe to ise anyatha le sakti hai, lekin me is tarah ki post ka virodh jaari rakhunga.
Nilesh

Dr. Pundir ने कहा…

Nilesh ki baat Sahi hai. 1098 ka prayog jarooratmand bachchho se sambandhit soochana dene se hai.

Yadi aap sahayog karna chaahate hai to is link par jaye : http://www.childlineindia.org.in/1098/donations.htm

yah baat spast roop se website par likhi hai
[ http://www.childlineindia.org.in/ ]
" CHILDLINE India Foundation: Message Warning : We understand there is a chain mail circulating that says - one should call up 1098 to pick up left over food after a party etc so that it is not wasted. This is not true. We are India 's only and most widespread Children's phone emergency outreach service (1098) for children in need of care and protection. We do not pick up food or distribute food. This mail was not initiated by us, kindly do not circulate it. Your cooperation is appreciated."