रविवार, 2 मई 2010

अब गर्मी से राहत की उम्‍मीद है !!

एक महीने पूर्व मौसम के बारे में लिखे गए मेरे आलेख के अनुसार भले ही 6 और 7 अप्रैल को बारिश के नहीं होने से वो सप्‍ताह मौसम के हिसाब से ठंडा नहीं हो सका था , पर उस आलेख में मैने लिखा था कि 29 अप्रैल तक गर्मी अपनी चरम सीमा पर होगी , पर उसके बाद क्रमश: सुधार आएगा। ग्रहों के प्रतिकूल होने से आराम प्रदान करने के लिए 29 अप्रैल तक बारिश न होने की संभावना भी मैने जतायी थी , जैसा देखने को अवश्‍य मिला , एक दो जगहों पर थोडी बहुत बारिश गर्मी को घटाने में नाकामयाब ही रही।




वैसे तो बारिश का बडा योग अब 18 मई के आसपास ही आएगा , पर 29 अप्रैल तक सचमुच बहुत खराब रहे मौसम को सुधारने के क्रम में चतुर्दिक बादल के बनने से तथा यत्र तत्र बारिश के छींटे पडने से दो तीन दिनों में काफी राहत आयी है , ग्रहों के मौसम पर पडने वाले प्रभाव की पुष्टि तो हो जाती है। सारे अखबार इस बात की गवाही दे रहे हैं कि दो तीन दिनो के अंदर तापमान में अच्‍छी खासी गिरावट आयी है। मुझे नहीं लगता कि आनेवाले मई और जून भी मार्च और अप्रैल की तरह गरम रहेगी , क्‍यूंकि बाद की तिथियों में समय समय पर बारिश के योग दिखते हैं। वैसे इस बात की चर्चा मैने उस आलेख में कर ही चुकी हूं , अब गर्मी के अधिक बढने की उम्‍मीद नहीं । 

11 टिप्‍पणियां:

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

गनीमत है।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

अच्छी खबर है... देश की जनसंख्या में कभी कमी आयेगी क्या.... क्योकि भ्रष्टाचार, जनसंख्या और मंहगाई यह सब एक साथ भारत की जड़ों को खोद रहे हैं...

वन्दना ने कहा…

shukra hai kuch to rahat mili..........sach garmi ne dara rakha tha is baar.

sangeeta swarup ने कहा…

बस ये उम्मीद बनी रहे....राहत मिली..ये पढ़ कर

Anaam ने कहा…

अच्छा है. गर्मी के कारण देश की जनसँख्या भी बढ़ जाती है.

honesty project democracy ने कहा…

कास इसी तरह भ्रष्टाचार की गर्मी से राहत की भविश्यवाणी भी हो पाती / इस प्रस्तुती के लिए आपका धन्यवाद /

मनोज कुमार ने कहा…

बिल्कुल सही भविष्यवाणी है। कोलकाता में पिछले तीन-चार घंटों से जम कर और थम-थम कर बारिश हो रही है। ए.सी. तो क्या फैन भी बंद है और ठंढे मौसम में भारत और दक्षिण अफ्रीका मैच का आनंद ले रहे हैं।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी पोस्ट पढ़कर गर्मी से राहत सी मिल गई!

राज भाटिय़ा ने कहा…

हमारे यहां तो सर्दी है जी, लेकिन जब ब्लांग जगत ओर समाचार प्त्रो ओर फ़ोन पर सुनते है कि बहुत गर्मी है तो... आप की यह पोस्ट हमे भी ठंडक पहुचांती है. चलिये मेरे देश के लोगो को कुछ तो राहत मिले इस गर्मी से.धन्यवाद

Udan Tashtari ने कहा…

लोगों को इस भीषण तपन से राहत मिले, यही दुआ है.

varun ने कहा…

saayad....