रविवार, 28 नवंबर 2010

मैं तिलयार झील खासकर निर्मला कपिला जी से मिलने गयी थी !!

17 दिनों बाद आज अपने ब्‍लॉग को अपडेट करने का मौका मिला है , इतने दिनों में विषय की कमी नहीं , कहां से शुरू करूं और कहां समाप्‍त। मौसम की भविष्‍यवाणी करूं या राजनीति की , लग्‍न राशिफल लिखूं या शेयर बाजार का आकलन करूं , हमारे पाठकों को सबका इंतजार रहता है। इसके अलावे 21 नवंबर को हुए तिलयार झील के ब्‍लॉगर मिलन के सुखद पलों को भी आप सबों से बांटने की इच्‍छा है। दिल्‍ली से बोकारो लौटने के बाद भी एक विवाह के सिलसिले में तीन चार दिनों तक व्‍यस्‍तता बनी ही रही। इस समय कुछ लेखन तो न हो सका , पर दो दिनों में मैने पोस्‍टों को पढा और ब्‍लॉग4वार्ता लगायी , कल रात लग्‍न राशिफल और शेयर बाजार के बारे में आकलन भी किया।

मौसम के बारे में तो कुछ दिन पूर्व ही जानकारी दे चुकी हूं कि ग्रहीय स्थिति के प्रतिकूल होने से दिसंबर के पहले सप्‍ताह में ही ठंढ के बढने की संभावना है। खासकर 6 और 7 दिसंबर का ग्रहीय योग यत्र तत्र बादल , बारिश , कुहासा , आंधी , तूफान और बर्फबारी का माहौल बनाएगा , जिसके कारण आम जन जीवन अस्‍त व्‍यस्‍त रहेगा। 6 और 7 दिसंबर का यह योग राजनीति में भी माहौल को गरम रख सकता है , शेयर बाजार में भी उल्‍लेखनीय परिवर्तन ला सकता है। इस समय के आसपास बहुत सारे कार्यों में लोगों की व्‍यस्‍तता बनी रहेगी , बहुत परिणाम भी निकलकर सामने आएंगे।

तिलियार झील की ब्लॉगर बैठक के बारे में आप सबों को तो बहुत जानकारी मिल गयी होगी , पर आपसे अपने अनुभव साझा करने की इच्‍छा है, थोडी निश्चिंति से ही लिख पाऊंगी। हो सकता है , इसे 'गत्‍यात्‍मक चिंतन' नामक अपने ब्‍लॉग में प्रकाशित करूं। अभी तो काम बहुत सारे हैं और समय कम , इसलिए क्षमा चाहूंगी। बस इतना कह सकती हूं कि जिनको आप पढते आए हैं , उन सबसे मिलना बहुत ही सुखद अहसास देता है। वास्‍तव में , मैं इस बार खासकर निर्मला कपिला जी से मिलने गयी थी और मुझे सबसे अधिक खुशी उनसे मिलकर हुई। राज भाटिया जी ने हमें मिलवाया , इसके लिए उनको शुक्रिया कहना चाहूंगी । इस चित्र में आप भी देखिए .....

28 टिप्‍पणियां:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

आपकी लेखनी से भी तिलियार की रिपोर्ट की प्रतीक्षा है..

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

निर्मला कपिला जी से मिलने के बारे में आपने बढ़िया जानकारी दी है .... आगे अब आपके लेख नियमित पढ़ने मिलते रहेंगे....

निर्मला कपिला ने कहा…

संगीता जी मै तो सोच रही थी कि सब से अधिक खुशी मुझे हुयी है। मगर दोनो के लिये वो खुशी के पल यादगार बन गये। आपसे मिलना बहुत सुखद लगा। अब कभी हमारे शहर मे भी आईये। आपका धन्यवाद इस अपार स्नेह के लिये। शुभकामनायें।

केवल राम ने कहा…

संगीता जी ,
आपकी पोस्ट का इन्तजार था ..और आज तमन्ना पूरी हुई ..अधूरी ही सही ..पूरी होने की आस तो है ...बहुत अच्छा लगा आप सबसे मिलकर ..आप आशीष और स्नेह जिन्दगी भर याद रहेगा ...बहुत -बहुत आभार
चलते -चलते पर आपका स्वागत है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आप लोगों की खुशी देखते ही बनती है ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आप भाग्यशाली हैं!
निर्मला कपिला जी से तो हम भी मिलने को उत्सुक हैं!

Arvind Mishra ने कहा…

तेलियार संगम !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत अच्छा लगा पढ़कर।

मनोज कुमार ने कहा…

चेहरे पर की खुशी आपने लिख कर भी बांट ली।

अविनाश ने कहा…

मुझे आप सबको खुश देखकर खूब खुशी मिली है।
हुई तो पीड़़ा भी है जो तिलयार झील पर तिल के समान ही रहे। उन तिलों में तेल नहीं। पर खुशी के तिल तेल से लबालब हैं। विवरण का इंतजार रहेगा।

Vivek Rastogi ने कहा…

वाह अच्छा लगा, हमें भी मलाल है कि इतने सारे ब्लॉगर्स से मिलने का मौका मिला था, पर दूर होने की वजह से मजबूरी में चूकना पड़ा।

honesty project democracy ने कहा…

जिनको आप पढते आए हैं , उन सबसे मिलना बहुत ही सुखद अहसास देता है.....

यह सुखद एहसास आपके इस पोस्ट में महसूस की जा सकती है......और इस सुखद एहसास के लिए धन्यवाद के पात्र हैं राज भाटिया जी......

ajit gupta ने कहा…

संगीता जी, आपका चित्र तो आपके ब्‍लाग वाले चित्र से मेल नहीं खाता। उसे भी अपडेट करते रहा करो। निर्मलाजी से मिलने के लिए हम तो केलिफोर्निया गए थे जी।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

अच्छा लगा जानकर ...... मुझे आप दोनों को पढना पसंद है....

निशांत मिश्र - Nishant Mishra ने कहा…

पढ़कर अच्छा लगा.
यह भी अच्छा हुआ कि नवम्बर के मध्य में कोई बड़ा भूकंप नहीं आया.

संगीता पुरी ने कहा…

निशांत मिश्र जी,
भूकम्‍प मेरे बताए हुए दिन में आया .. मेरे बताए जगह के आसपास भूकम्‍प आया .. पर वह रेड अलर्ट का न होकर ओरेंज एलर्ट का रहा .. यहां देखिए रिपोर्ट।

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

ये थी आपके और निर्मला जी के मिलने की कहानी अब तिलयार ब्लॉगर सम्मेलन के रिपोर्ट की प्रतीक्षा है । आप दोनो की तस्वीर बहुत अचछी है, प्रसन्न ।

वन्दना ने कहा…

बहुत अच्छा लगा पढकर्।

Udan Tashtari ने कहा…

चलिये, जब समय मिले तब लिखियेगा..कोई जल्दी नहीं है. :)

एस.एम.मासूम ने कहा…

दोनों के चेहरे की ख़ुशी बता रही है, की आप का जाना सफल रहा.

shikha varshney ने कहा…

अच्छा लगा पढकर .आपकी रिपोर्ट का भी इंतज़ार रहेगा.

vinay ने कहा…

हम तो सोचते ही रह गये,आप कहां चली गयीं,आपका आलेख पड़ कर और आप दोनों की चेहरे पर खुशी अच्छी लगी,बस अब प्रतीक्षा है,आपके लेखों की ।

सतीश सक्सेना ने कहा…

शुभप्रभात संगीता जी !
आप उन लोगों में से हैं जिनसे मुझे मिल पाने की उम्मीद कम थी , तिलयार के कारण संभव रहा ...राज भाटिया का आभारी हूँ !

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

अच्छा लगा पढ़ना जी। और आप दोनो का चित्र भी अच्छा लगा।

ZEAL ने कहा…

.

@--बस इतना कह सकती हूं कि जिनको आप पढते आए हैं , उन सबसे मिलना बहुत ही सुखद अहसास देता है।

सही कहा आपने , उस सुखद एहसास को इस तस्वीर के माध्यम से महसूस करसकती हूँ।

आभार ।

.

ankit ने कहा…

आदरणीय संगीता जी,
चरण स्पर्श...
ब्लॉग जगत में अभी नया हूँ,अपना आशीर्वाद और मार्गदर्शन हमेशा साथ रहे,कामना करता हूँ|
गलती हो तो ज़रूर टोक दीजियेगा|
धन्यवाद..

विजय तिवारी " किसलय " ने कहा…

पढ़ कर अच्छा लगा संगीता जी.
अगली पोस्ट का इन्तजार रहेगा .
चित्र में दोनों अत्यंत प्रसन्नमुद्रा में हैं.
- विजय तिवारी 'किसलय'
सकारात्मक एवं आदर्श ब्लागिंग की दिशा में अग्रसर होना ब्लागर्स का दायित्त्व है : जबलपुर ब्लागिंग कार्यशाला पर विशेष.

Vicky Babu ने कहा…

Main yaha koi post krne ya swal krne k liye nhi hu mahodaya.main sirf aapka shukriya krna chahta hu kyoki kafi din pehle aapne mere blog pr ek kavita pdh ke ek tippani ki thi.aapki tippani padh ke mujhe lga ke main kuchh nirarthak nhi likh rha hu.
Itne din baad uttar dene ke liye mafi chahta hu.
Ant me ek swal b h-
Kya mujhe santan prapti ka koi yog h.
Meri janmtithi 1980 ke shrawan mas ki purnima h.meri anpadh ma k according.
Mere blog pr aane ka puah dhanywad.

Regards-vickybabu10.blogspot.com