गुरुवार, 26 मई 2011

29-30-31 मई 2011 का पंचग्रही योग आपके लिए भी हो सकता है महत्‍वपूर्ण

करीब दो तीन महीनों से बुध , मंगल , गुरू और शुक्र यानि चार ग्रह साथ साथ यानि एक ही राशि में चल रहे हैं , आरंभ में शुक्र के स्‍थान पर सूर्य की स्थिति भी इन ग्रहों के साथ ही थी , इस मध्‍य 28 दिनों पर दो ढाई दिनों तक चंद्रमा भी उसी राशि में ठहर जाता है , तो उसे मिलाकर पांच ग्रह एक साथ हो जाते हैं , जिससे पंचग्रही योग का निर्माण होता है। पंचग्रही योग को बहुत महत्‍वपूर्ण माना जाता है , पिछले महीने यानि अप्रैल की 29 , 30 और 31 तारीख को ये सारे ग्रह एक ही राशि मीन में मौजूद थे। 30 अप्रैल को आयोजित हिन्दी भवन में आयोजित परिकल्पना सम्मान समारोह की सफलता का श्रेय पंचग्रही योग को भी दिया जा सकता है। इस दिन अधिकांश ग्रहों की स्थिति एक साथ होने से और उनके साथ चंद्रमा के होने से यह दिन महत्‍वपूर्ण और यादगार बन जाया करता है।

आनेवाले 29 , 30 और 31 मई को भी चंद्र , बुध , मंगल , गुरू और शुक्र एक साथ मौजूद रहेंगे , लेकिन अब ये राशि बदल चुके हैं और मीन में न होकर मेष राशि में स्थित हैं। कुछ ज्‍योतिषी इसके साथ शनि की स्थिति को कष्‍टकर बता रहे हैं , पर 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के हिसाब से ऐसी कोई बात नहीं है। यह सच अवश्‍य है कि मीन राशि की तुलना में मेष राशि का पंचग्रही योग शुभता में कुछ कमी लानेवाला होता है , पर इसके बावजूद ग्रहों की गत्‍यात्‍मक शक्ति को देखते हुए आनेवाले पंचग्रही योग को भी हम शुभ ही पाएंगे , क्‍यूंकि पिछले महीने की तुलना में हमें शनि की स्थिति कुछ सुखद दिखाई दे रही है। सामाजिक , राजनीतिक वातावरण से लेकर मौसम और शेयर बाजार तक में इस योग का अच्‍छा प्रभाव बने रहने की उम्‍मीद है। इसलिए माहौल मनोनुकूल बना रहेगा , मौसम सुखद और शेयर बाजार में बढत , लगभग सभी सेक्‍टर के शेयरों में बढत दिखाई पडेगी।

जहां वृश्चिक और मेष राशि वालों के लिए यह योग सुख्‍द होगा , वहीं कर्क और तुला राशि वालों के लिए महत्‍वपूर्ण तथा कन्‍या राशि वालों के लिए कष्‍टकर भी हो सकता है। इसी प्रकार सामान्‍य तौर पर नवंबर दिसंबर में जन्‍म लेने वालों के लिए यह योग सुखद होगा , जबकि सितंबर अक्तूबर में जन्‍म लेनेवाले कुछ परेशानी का अनुभव कर सकते हैं। किसी भी देश या शहर में इस योग का दुष्‍प्रभाव दोपहर 12 बजे से 3 बजे के लगभग तक देखने को मिल सकता है , पर 5 बजे से 7 बजे सायं तक का समय इस योग के सुखद प्रभाव का होगा। अपनी अपनी जन्‍मकुंडली के हिसाब से इन दिनों में अधिकांश व्‍यक्ति किसी मनोरंजक , महत्‍वपूर्ण या कष्‍टकर कार्यों में व्‍यस्‍त दिखेंगे।

14 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

हमारी राशि पर असर की कुछ बात ही नहीं हुई इसमें.

: केवल राम : ने कहा…

चलो जी हमने भी जान लिया ....कब कहाँ क्या घटित होने वाला है ..!

तीसरी आंख ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने, जुग जुग जियो

मनोज कुमार ने कहा…

चलिए हमारी ‘उनकी’ के लिए तो ठीक ठाक समय है।

वन्दना ने कहा…

हमारा क्या होगा ये तो बताया ही नही।

कुमार राधारमण ने कहा…

मैं सुखद योग की संभावना वाली राशि का हूं। आपके मुंह में घी-शक्कर!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जानकारी धन्यवाद

ललित शर्मा ने कहा…

@वृश्चिक और मेष राशि वालों के लिए यह योग सुख्‍द होगा.

Dhanya ho gaye ji.

राकेश जैन ने कहा…

Main bhi sukhad yog ki sambhavna bali rashi ka hun....Dhanyabad Sangeeta JI...

राकेश जैन ने कहा…

main bhi sukhad yog rashi ka dhani hun..Shukriya!

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

अच्छा ही लग रहा है...

Arunesh c dave ने कहा…

एक लाख पाठक संख्या पूर्ण होने पर आपको बधाई एव शुभकामनाएं

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi ने कहा…

चलो शांति से निकल गए तीनों दिन... :)