रविवार, 4 सितंबर 2011

सप्ताह के पहले दो तीन दिन की तुलना में सप्ताह का अन्तिम दोनों दिन बाजार के लिए बहुत कमजोर!!

१९ अगस्त को भारतीय शेयर बाजार में गिरावट चरम सीमा पर पहुँच गयी थी , ग्रहों की स्थिति को देखते हुए मुझे महसूस हो रहा था की गिरावट और जारी नहीं रहनी चाहिए , तो मैंने निवेशकों को निवेशकों को राहत प्रदान करने के लिए मैंने एक पोस्ट लिख दी की यह गिरावट और जारी नहीं रहेगी! और आजतक सचमुच ऐसा ही देखने को मिला . २४ , २५ और २६ अगस्त ग्रहीय दृष्टि से शेयर बाजार के लिए कुछ कमजोर थे ही. पर इस सप्ताह बाजार पहले केवल सोमवार व मंगलवार को ही खुला था और इन दो सत्रों में सेंसेक्स ने करीब 828 अंक की बढ़त हासिल की थी।


वैश्विक स्तर पर भारी गिरावट के बावजूद भारतीय शेयर बाजार में २ अगस्त को लगातार तीसरे कारोबारी दिवस में तेजी बनी रही। वास्तव में घरेलू स्तर पर ईद और गणेश चतुर्थी का अवकाश रहने के कारन भारतीय बाजार दो दिनों तक ग्लोबल स्तर पर चली रैली में भागीदारी नहीं कर पाए। इसलिए खाद्य महंगाई दर के फिर से दहाई अंकों में पहुंचने की खबर आने के बाद भी सेंसेक्स न सिर्फ मजबूती के साथ खुला, कारोबार के दौरान एक समय सेंसेक्स 16,989.86 अंक को भी छू गया . हालांकि, अंतत: इसमें थोड़ी कमी आई.

शेयर बाजार में लगातार होने वाले उतार चढाव को देखते हुए बाजार विशेषज्ञ भी कुछ भविष्यवाणी नहीं कर पा रहे हैं.कुछ को महसूस हो रहा है की बाजार गिरावट से उबर्नेवाला है , तो कुछ कई कारकों को लेकर अभी भी दुविधा में हैं. 'गत्यात्मक ज्योतिष' का रिसर्च कहता है की शुक्रवार को पुरे विश्व के बाजारों में गिरावट के प्रभाव से भले ही आनेवाले सप्ताह में शुरुआत में शेयर बाजार कुछ कमजोर रहेगा , पर एक दो घंटे बाद ही सेंसेक्स और निफ्टी में तेजी दिखलाई पड़ने लगेगी. हाँ , सप्ताह के पहले दो तीन दिन की तुलना में सप्ताह का अन्तिम दोनों दिन बाजार के लिए बहुत कमजोर दिखाई देता है. 

5 टिप्‍पणियां:

दर्शन लाल बवेजा ने कहा…

और घाटा नहीं नहीं ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अचछी रही यह जानकारी!
--
शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ और सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन जी को नमन!

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
शिक्षक दिवस की शुभकामनायें.

Dilbag Virk ने कहा…

sheyar dhariyon ke lie aapke sujhav avshy hi upyogi lgegen

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

अच्छी जानकारी,आभार.