शनिवार, 19 नवंबर 2011

निरंतर 8 महीने तक डटा रहेगा सिंह राशि में मंगल .. अच्‍छे या बुरे प्रभाव में आ रहे हैं आप ??

पिछले दोनो लेखों में गोचर में ढाई वर्षों तक तुला राशि में स्थित शनि और दो महीने तक वृश्चिक राशि में स्थित बुध के अच्‍छे और बुरे प्रभाव से प्रभावित होने वाले जातकों के बारे में विस्‍तार से उल्‍लेख किया गया , आज के आलेख में चर्चा होगी उन समयांतराल की , जिसमें जन्‍म लेनेवाले सिंह राशि के मंगल के अच्‍छे या बुरे प्रभाव में आएंगे। जिन्‍होने भी नियमित तौर पर पंचांग में ग्रहों के चाल पर ध्‍यान दिया होगा , उन्‍होने पाया होगा कि लगभग डेढ से दो महीने तक एक राशि में होने के बाद मंगल अपनी राशि बदल लेता है , पर कभी कभी वक्री होने से पहले और मार्गी होने के बाद इसकी गति कम हो जाती है , उन दिनों में या छह सात महीने एक ही राशि में रह जाता है , इस बार तो यह पूरे आठ महीने सिंह राशि में डटा हुआ है। 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के अनुसार इस समय यह बहुत ही क्रियाशील होता है और जनसामान्‍य के सम्‍मुख किसी न किसी प्रकार के कार्य , जबाबदेही या तनाव उपस्थित कर देता है। इसकी हल्‍की शुरूआत तभी हो जाती है , जब यह संबंधित राशि में चला जाता है।

इस वर्ष 1 नवंबर 2011 से 21 जून 2012 तक मंगल की स्थिति सिंह राशि में बनी हुई है , इसी कारण 1 नवंबर से मंगल से संबंधित मुद्दों को मजबूत बनाने के लिए या उससे संबंधित कमजोरी को दूर करने के लिए लोगों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण बनने लगा है। मेष लग्‍नवाले स्‍वास्‍थ्‍य , व्‍यक्तित्‍व और जीवनशैली , वृष लग्‍नवाले घर , गृहस्‍थी , खर्च , बाहरी संदर्भों , मिथुन लग्‍नवाले लाभ , प्रभाव या कई प्रकार के झंझट , कर्क लग्‍नवाले अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई , कार्यक्षेत्र या समाजिक मामलों , सिंह लग्‍न वाले भाग्‍य , धर्म , माता पक्ष या वाहन समेत कई प्रकार की संपत्ति , कन्‍या लग्‍नवाले भाई , बहन , बंधु बांधव या जीवनशैली , तुला लग्‍नवाले धन , कोष , घर गृहस्‍थी के मामले , वृश्चिक लग्‍नवाले स्‍वास्‍थ्‍य , व्‍यक्तित्‍व , प्रभाव , कई प्रकार के झंझट , धनु लग्‍नवाले अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई , खर्च और बाहरी संदर्भ , मकर लग्‍न वाले माता पक्ष , हर प्रकार की संपत्ति और लाभ , कुंभ लग्‍न वाले भाई , बहन , बंधु , बांधव , पिता पक्ष , कार्यक्षेत्र और सामाजिक मामलों तथा मीन लग्‍नवाले भाग्‍य , धन , कोष की स्थिति को लेकर चिंतन शुरू करेंगे।

'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के हिसाब से मंगल युवा वर्ग का प्रतिनिधित्‍व करता है , इसलिए 24 से 30 वर्ष की उम्र के युवाओं पर इसका सर्वाधिक प्रभाव होता है। इसलिए इन छह महीनों के अंदर इनकी स्थिति में परिवर्तन देखने को मिलेंगे , नौकरी में ट्रांसफर , प्रोमोशन और वैवाहिक मामलों में इनकी व्‍यस्‍तता बन सकती है। खासकर 1981 , 1983, 1985 और 1987 , 1988 के अंत अंत में और मीन राशि में जन्‍म लेनेवाले युवा यहां बडी सफलता की उम्‍मीद रख सकते हैं। अधिकांश लोग खासकर जिनका मंगल मजबूत है और जिन्‍होने युवावस्‍था का समय आनंद में व्‍यतीत किया या कर रहे हैं  , का 1 नवंबर 2011 से ही शुरू होनेवाला संबंधित विषयों पर चिंतन 2 दिसंबर 2011 को आसमान में सूर्य और मंगल की खास स्थिति बनने के बाद गंभीर होता जाएगा और लगभग दो महीने तक इस दिशा में अपने कार्यक्रम और कार्यवाही शुरू कर देंगे।  25 जनवरी 2012 के आसपास किसी बाधा के उपस्थित होने के कारण कार्यक्रम कुछ मंद पडेगा और 4 मार्च तक काम आगे नहीं बढ पाएगा,उसके बाद कुछ सुधार की गुंजाइश है। 14 अप्रैल 2012 के आपास अपने उसी रूप में या रूप बदलकर कार्य रु्तार पकडेगा और 8 जून 2012 के आसपास एक निर्णायक मोड पर आ जाएगा। उपरोक्‍त समयांतराल में जन्‍म लेने वाले अधिकांश लोग इस निर्णय से खुश रहेंगे ।

लेकिन यदि 2 मार्च से 3 मई 1982 , 17 अप्रैल से 11 जून 1984 या 20 जून से 3 अगस्‍त 1986 तक या मकर राशि में जन्‍म लेनेवाले युवाओं की बात की जाए , तो मंगल की इस खास स्थिति में इनकी परिस्थितियां बहुत गडबड रहेगी, वैसे तो 24 वर्ष की उम्र से ही ये कठिनाई के दौर से गुजर रहे हैं , इस वर्ष  1 नवंबर से ही इनके सम्‍मुख अनिश्चितता की स्थिति बन गयी होगी । बाकी लोगों में भी खासकर जिनका मंगल कमजोर है और जिन्‍होने युवावस्‍था का समय कठिनाई में व्‍यतीत किया या कर रहे हैं  , का 1 नवंबर से ही शुरू होनेवाले माहौल की गडबडी 2 दिसंबर को आसमान में सूर्य और मंगल की खास स्थिति बनने के बाद गंभीर होती जाएगी और निराशाजनक परिस्थितियों में लगभग दो महीने तक इसे सुधारने की कार्यवाही शुरू कर देंगे।  पर 25 जनवरी तक जो भी आशा बनी होगी , वो टूट जाएगा और उनके समक्ष 4 मार्च तक किंकर्तब्‍यविमूढावस्‍था की स्थिति बनी रहेगी। उसके बाद पुन: किसी आशा पर काम किया जा सकता है , 14 अप्रैल 2012 के बाद एक बार पुन: निराशाजनक परिस्थितियों में कार्यारंभ होगा और 8 जून तक पुन: तनाव देने वाला परिणाम सामने आएगा। कोशिश बेकार महसूस होगी , पर 21 जून 2012 के बाद मंगल के सिंह राशि से निकलते ही इस कार्यक्रम का पटाक्षेप हो जाएगा और कार्याधिक्‍य के दबाब से प्रभावित लोग राहत की सांस लेंगे। 

8 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

जिनका मंगल द्वादश भाव में है, उनके लिए? ...

संगीता पुरी ने कहा…

@ मनोज कुमार जी ..
नवंबर से किस मद पर खर्च करने का कार्यक्रम बन रहा है ??
मेरे ख्‍याल से किसी प्रकार की संपत्ति पर खर्च हो सकता है !!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

गहन जानकारी मिली .

विष्णु बैरागी ने कहा…

ढेर सारी जानकारियॉं - वे भी इतने विस्‍तार से। आप का परिश्रम चकित करता है।

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

बहुत विस्‍तार से समझाया है आपने।

vimal ने कहा…

sangeeta g namskar meri rashi ke bare mujhe kuch malum nahi hai plz kuch batayen mera janm 2 july 1987 ko hua aur sayad morning time mei hua humare goun k pandit g ne kundali mei singh rashi bataya hai pr mujhe nahi lagta hai date aur time k hishab se to ye makar honi chaiye plz ishk bare mei kuch batane ka kast karen mai bahut pareshan hun ish vishy mei

vimal negi

vimal ने कहा…

sangeeta g namskar meri rashi ke bare mujhe kuch malum nahi hai plz kuch batayen mera janm 2 july 1987 ko hua aur sayad morning time mei hua humare goun k pandit g ne kundali mei singh rashi bataya hai pr mujhe nahi lagta hai date aur time k hishab se to ye makar honi chaiye plz ishk bare mei kuch batane ka kast karen mai bahut pareshan hun ish vishy mei

vimal ने कहा…

sangeeta g namskar meri rashi ke bare mujhe kuch malum nahi hai plz kuch batayen mera janm 2 july 1987 ko hua aur sayad morning time mei hua humare goun k pandit g ne kundali mei singh rashi bataya hai pr mujhe nahi lagta hai date aur time k hishab se to ye makar honi chaiye plz ishk bare mei kuch batane ka kast karen mai bahut pareshan hun ish vishy mei