शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

पूरे ब्रह्मांड में बनते रहते हैं सुंदर सुंदर दृश्‍य .....

जिस तरह पृथ्‍वी में सुंदर दृश्‍यों की कमी नहीं , वैसे ही पूरे ब्रह्मांड में भी बनते रहते हैं। हमारा ब्रह्मांड करोड़ों निहारिकाओं के समूह से भरा हुआ है। आसमान में अक्‍सर इनकी विभिन्‍न गतियों के कारण सुंदर दृश्‍य बनते हैं। कभी कभी इनमें से किसी एक को आधी रात के आकाश में धुंधले बादल के रूप में देख सकते हैं। टेलीस्कोप से देखने पर यह बैलगाड़ी के चक्के के समान दिखाई देती है। कोरी आंखों से जरा ध्यान से देखना होता है। अन्‍य ग्रहों , उपग्रहों और नक्षत्रों की चाल और विशेषताओं के फलस्‍वरूप सौरमंडल के अंदर और सौरमंडल के बाहर और धरती से सटे आसमान में दिखाई देने वाले आकाश के ऐसे प्राकृतिक सुंदर दृश्‍यों को नासा कैमरे में कैद कर अपनी वेबसाइट पर डाल दिया करता है। इंटरनेट में मौजूद आसमान के इन सुंदर दृश्‍यों के साथ साथ नासा के आसमान में किए गए क्रियाकलापों के कुछ कृत्रिम सुंदर दृश्‍यों को भी इस पृष्‍ठ पर देखा जा सकता है। मैं तो इन्‍हे नियमित देखती हूं , आप भी आनंद लिया कीजिए। कुछ खास चित्र यहां दिए जा रहे हैं .....











ऐसे ही और दृश्‍यों का आनंद लेना चाहते हैं तो अभी पहुंच जाइए यहां पर ....दश्‍यों के साथ साथ इनसे संबंधित जानकारियां भी यहां उपलब्‍ध हैं।

31 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

प्रकृति के ये रंग भी बेहद सुंदर हैं..... बहुत बढ़िया चित्र

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

वास्तव में ही विस्मयकारी है हमारा ब्रह्मांड.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

ब्रह्माण्ड की सुन्दर चित्रावली से रूबरू कराने के लिए धन्यवाद!

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

रंग यत्र तत्र सर्वत्र बिखरे हुए हैं। बहुत ही सुंदर चित्र हैं।

मनोज कुमार ने कहा…

वाह! अद्भुत!!

जी.के. अवधिया ने कहा…

इन सुन्दर चित्रों को दिखाने के लिए धन्यवाद!

केवल राम : ने कहा…

बेहद अद्भुत है यह ब्रह्माण्ड ......विविधता भरा ...!

डॉ.मीनाक्षी स्वामी ने कहा…

वाह ! बहुत सुंदर।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

AlbelaKhatri.com ने कहा…

gazab ki kalakari hai kudrat ke nazaron me

वन्दना ने कहा…

अद्भुत ब्रह्मांड दर्शन करा दिये………वाह!

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

कल 27/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

यह कौन चित्रकार है, यह कौन चित्रकार....

प्रकृति कदम कदम में विस्मित करती है...
सादर...

Rama ने कहा…

अद्भुत दृश्य ...रोमांचकारी...सचमुच बह्मांड ऐसे क्रियाकलापों से भरा हुआ है यह जानकारी देने के लिए और दुर्लभ चित्र डालने के लिए बहुत -बहुत हार्दिक आभार....
डा. रमा द्विवेदी

अनुपमा त्रिपाठी... ने कहा…

विस्मय से भर जाता है मन ...
देख कर प्रभु का सृजन ....!!
बधाई एवं शुभकामनायें ....!!!

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

अन्तरिक्ष की सैर करा दी आप ने

Reena Maurya ने कहा…

very beautiful photographs...

श्रीप्रकाश डिमरी /Sriprakash Dimri ने कहा…

अनूठे सर्वशक्तिमान कलाकार के अनुपम कलाकृति है हमारा ब्रह्माण्ड ...शुभ कामनायें !!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर दृश्य ...

NISHA MAHARANA ने कहा…

वाह ! बहुत सुंदर।

veerubhai ने कहा…

सृष्टि का चक्र निराला है यह कायनात सच मुच बहुत सुन्दर है .सुन्दर दिग्दर्शन सृष्टि का आपने कराया आभार .

निर्झर'नीर ने कहा…

अद्भुत!!

Dr UPENDRA ने कहा…

हरि अनंत हरि कथा अनंता.. आप को प्रणाम। आप की अन्नवेषण प्रवृत्ति को प्रणाम।
हमें इंतजार रहेगा, न लीजो तनिक विराम।।
-डॉ उपेद्र, नोएडा

सागर ने कहा…

bhaut hi saundar chitran....

विष्णु बैरागी ने कहा…

ओह! इतनी सुन्‍दरता! ऑंखें झपकना भूल जाऍं। यह अवर्णनीय आनन्‍द प्रदान करने के लिए धन्‍यवाद।

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

अद्भुत सुन्दर चित्र

Gyan Darpan
Matrimonial Site

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

वाह! अद्भुत!!

ZEAL ने कहा…

thanks for this informative post...

अजय त्यागी ने कहा…

बहुत संदर!

अजय त्यागी ने कहा…

बहुत संदर!

Dr.vandana singh ने कहा…

अद्वितीय !!!
विस्मयकारी ब्रह्मांड का अद्भुत चित्रण !