मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

ग्रहीय प्रभाव से बहुत रोमांचक होगा कल का मैच !!

कहते हैं , समय बड़ा बलवान होता है। किसी खास समयांतराल में हमारी खास चिंतन-शैली होती है। खास समय में हम सफलताओं से संतुष्ट और खास समय में ही असफलताओं से दुखी होते हैं।इसी समय को प्रभावित करनेवाले कारकों को जानने के क्रम में ही हमारे ऋषि-मुनियों को यह दृष्टिगोचर हुआ था कि आकाश के विभिन्न ग्रहों की खास कोणों में स्थिति से ही पृथ्वीवासी अलग-अलग तरीके से प्रभावित होते हैं।

25 अक्‍तूबर 2009 को भारत आस्‍ट्रेलिया के मध्‍य हुए एकदिवसीय क्रिकेट मैच के लिए किया गया मेरा ग्रहीय विश्‍लेषणबिल्‍कुल सटीक रहा। हालांकि पहले से उद्घोषित किए गए समय में परिवर्तन होने से मैच बहुत हद तक भारत के पक्ष में हो गया और भारत बडी हार से अवश्‍य बच गया। जैसा कि पूरे मैच में मैने 3 बजे के बाद के दो घंटे भारतीय टीम के लिए सर्वाधिक अच्‍छे बताए थे , उस दिन ठीक उसी समय अंत होने से भारत ने ताबडतोड रन बनाकर अपनी स्थिति मजबूत कर ली।

कल जमथा नागपुर के विदर्भ क्रिकेट एशोसिएशन स्‍टेडियम में भारत और आस्‍ट्रेलिया के मध्‍य होने वाले दूसरे क्रिकेट मैच में ग्रह की स्थिति बिल्‍कुल सामान्‍य होने से दोनो टीमों की स्थिति मजबूत होनी चाहिए। भारत की शुरूआत बहुत ही अच्‍छी रहेगी और लगभग दो घंटे तक भारत काफी अच्‍छा खेलेगा , जिसके कारण अंत अंत तक सामान्‍य खेलते हुए भी पहली पारी में इसकी स्थिति बहुत ही मजबूत बन जाएगी।

दूसरी पारी में भी भारत की मजबूत स्थिति के कारण आस्‍ट्रेलिया किसी समय भारत पर दबाब बनाता नहीं दिखेगा । पर बिल्‍कुल आराम से खेलते हुए भी कछुए की चाल की तरह उसकी स्थिति भी मजबूत हो जाएगी और अंतिम एक घंटे में भारत पर दबाब पडने की शुरूआत होगी। इस बढते दबाब को भारतीय टीम जल्‍द समझ ले , तो जीत की थोडी संभावना बनेगी, अन्‍यथा थोडी भी लापरवाही हार का कारण बन सकती है , जिसकी मुझे अधिक संभावना दिखती है। आइए, ईश्‍वर से प्रार्थना करें कि भारतीय टीम जितनी एकाग्रता से मैच की शुरूआत करे , अंतिम क्षणों तक उतनी ही एकाग्र रह सके !!
एक टिप्पणी भेजें