शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009

हम तो अपनी भारतीय टीम के जीत और आस्‍ट्रेलिया के हार की ही कामना करेंगे !!

यह समयचक्र ही है, जिसने न जाने कितने सामर्थ्‍यवान को सामर्थ्‍यहीन और सामर्थ्‍यहीन को सामर्थ्‍यवान बना डाला। परंतु कुछ लोग अपनी लगन, मेहनत और अध्यवसाय के बल पर अपनी स्थिति को इतना मजबूत बना लेते हैं कि वे समय के कमजोर प्रभाव में आ ही नहीं सकते। विश्व के लगभग सभी देशों में राष्‍ट्रीय स्‍तर पर खेल रहे क्रिकेटरों की स्थिति आज इतनी मजबूत है कि समय उनसे पैसा या प्रतिष्ठा छीनकर भी उन्हें सामर्थ्‍यहीन नहीं बना सकता। लेकिन उनके लिए भी तो समय-चक्र प्रभावहीन नहीं हो सकता। भले ही क्रिकेटर अपने ही समकक्ष शक्तिवाले खिलाडियों के साथ मैच खेल रहें हों, शुभ समय में अनुकूल वातावरण प्रदान कर सफलताओं का नया इतिहास रचाता है, वहीं दूसरी ओर गड़बड़ समय में प्रतिकूल वातावरण प्रदान कर असफलताओं से शारीरिक और मानसिक कष्ट प्रदान करने की कोशिश में लगा होता है।

पिछले दोनो मैचों के लिए ज्‍योतिषीय आधार पर किया गया मेरा विश्‍लेषणतो आपने पढा ही होगा। पहले दिन के मैच में मैने बडी हार की भविष्‍यवाणी की थी , समय के परिवर्तन होने से भारतीय टीम उस बडी हार से बच गया , पर चार रन से ही सही ग्रह ने अपना प्रभाव दिखा ही दिया। दूसरे दिन पहली पारी में भारतीय टीम की मजबूत स्थिति और आस्‍ट्रेलिया के कछुए की चाल से अपने मजबूत होने के अहसास के बाद मुझे भारतीय टीम की ओर से कुछ लापरवाही के बन जाने का भय मुझे हुआ , पर ईश्‍वर की कृपा रही और भारतीय टीम ने मैच जीत ही ली और मात्र 'रोमांचक'  शब्‍द को छोडकर मेरी एक एक स्‍टेप भविष्‍यवाणी सही रही।

31 अक्‍तूबर 2009 को दिल्‍ली के फिरोज शाह कोटला में भारत आस्‍ट्रेलिया के मध्‍य होनेवाले तीसरे एक‍ दिवसीय मैच में भी भारतीय टीम के द्वारा मैच की धमाकेदार शुरूआत की जाएगी और ऐसा लगभग दो घंटे तक चलेगा। लेकिन उसके बाद क्रमश: आस्‍ट्रेलियन टीम गंभीर होती चली जाएगी और भारत की स्थिति अपेक्षाकृत कमजोर, जिसके कारण पहली पारी के अंत में भारतीय टीम की स्थिति काफी मजबूत नहीं रह पाएगी।

दूसरी पारी के आरंभ में भी भारतीय टीम की गंभीरता काफी बनी रहेगी और इस कारण आस्‍ट्रेलियन टीम का शुरूआती अनुभव अच्‍छा नहीं रहेगा और दो घंटे उनसे अधिक की उम्‍मीद नहीं की जा सकती! पर उसके बाद के दो घंटे में ग्रहीय बाधा के गुजर जाने से खेल में अवश्‍य सुधार आना चाहिए! उसमें इतनी कामयाब हो जाए कि भारतीय टीम को हरा सके , ऐसा मुझे तो नहीं दिखता। पर मेहनत , हिम्‍मत और लगन से वे इसमें कामयाब भी हो सकते है , क्‍यूंकि भारतीय टीम भी बहुत मजबूत हालत में नहीं होगा। पर एक भारतीय होने के नाते हम तो भई , अपनी भारतीय टीम के जीत और आस्‍ट्रेलिया के हार की ही कामना करेंगे !!
एक टिप्पणी भेजें