गुरुवार, 4 फ़रवरी 2010

मेरी भविष्‍यवाणी में जगह का अंतर , थोडी देर , तीव्रता में कमी क्‍या हुई .. विरोधियों के तो बल्‍ले बल्‍ले ही हो गए !!










मेरे ब्‍लॉग को नियमित तौर पर पढनेवाले पाठक इस बात से अवश्‍य परिचित हो गए होंगे कि मैं ज्‍योतिष के सैद्धांतिक आलेख नहीं लिखा करती। जहां एक ओर ज्‍योतिष में समाहित अवैज्ञानिक तथ्‍यों का भी मैं रहस्‍योद्घाटन करती हूं , वहीं ज्‍योतिष के वैज्ञानिक स्‍वरूप के व्‍यवहारिक प्रयोग की भी चर्चा करती हूं। ज्‍योतिष पर लोगों का विश्‍वास बनाने के लिए मैं हमेशा तिथियुक्‍त भविष्‍यवाणियां किया करती हूं , जिसमें तुक्‍का का कोई सवाल ही नहीं उठता। सटीक हुई भविष्‍यवाणियां मेरे सिद्धांत की प्रामाणिकता को स्‍पष्‍ट करते हुए मेरे आत्‍म विश्‍वास में जितनी बढोत्‍तरी करती है , गलत होने वाली भविष्‍यवाणियां भी उस सिद्धांत में अपवाद को ढूंढकर मेरे 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' को और सटीक बनाती है। इसलिए भविष्‍यवाणियों के सही और गलत होने से मेरे आत्‍म विश्‍वास पर कोई अंतर नहीं पडता , किसी भी विज्ञान में अपवाद न हो , तो फिर उसका विकास ही रूक जाएगा। 

3 और 4 फरवरी की ग्रहस्थिति के कारण भारत में उपस्थित होनेवाली परिस्थितियों , चाहे वो मौसम का हो , राजनीति का हो या फिर शेयर बाजार का , मैने जो भी आकलन किया था , परिस्थितियां वैसी नहीं बन सकी । यह जहां ज्‍योतिष प्रेमियों के लिए आहत वाली खबर होगी , विरोधियों के तो बल्‍ले बल्‍ले ही हो गए। वैसे जहां तक मेरा मानना है , मेरी भविष्‍यवाणियों के सटीक होने पर कई बार ज्‍योतिष प्रेमी खुश होते हैं , तो कभी कभार विरोधियों को भी खुश होने की थोडी जगह तो मिलनी ही चाहिए। शेयर बाजार और राजनीतिक उथल पुथल के बारे में मेरी भविष्‍यवाणियां यदा कदा गलत हुई हैं , इसलिए सिद्धांतों की सटीकता पर कुछ संदेह बना हुआ है। 

पर मौसम के मामलों में ऐसा पहली बार हुआ है , इससे यही समझा जा सका है कि शायद अपवाद का जो कारक हो , वह बहुत वर्षों बाद इस वर्ष आया हो। अपवाद का कारण अभी तक भी समझ में नहीं आया , इसकी खोज जारी है। हालांकि छत्‍तीसगढ से कल रात से ही मौसम बिगडने की सूंचना ब्‍लॉग पर प्रकाशित की गयी है , पर यदि उसका प्रभाव एक दो दिन में उत्‍तरी भारत के अधिकांश हिस्‍सों पर पड जाता है , तब ही मैं अपनी भविष्‍यवाणी को सटीक समझूंगी , अन्‍यथा मैं उसे सटीक बनाने के प्रयास में ही लगी रहूंगी। अभी भी मुझे ग्रहों के प्रभाव पर विश्‍वास है , मौसम को प्रभावित करने वाले ग्रह स्थिति के आधार पर 2010 के पूरे वर्षभर के मौसम का खाका खींचते हुए एक आलेख का वादा मैने पाठकों से किया था , जिसे कुछ ही दिनों में अवश्‍य प्रेषित करूंगी। एक भविष्‍यवाणी के गलत होने से मैं कैसे मान लूं कि ग्रहों का प्रभाव मौसम पर नहीं पडता !


मुझे तो मालूम था ही कि मेरी गलती के कारण ज्‍योतिष की वैज्ञानिकता पर सवाल उठाए जाएंगे। ज्‍योतिष की यही तो विडंबना है, सटीकता पर कोई पीठ थपथपाए या नहीं, गल्‍ती पर ध्‍यानाकर्षण स्‍वाभाविक है और यही ज्‍योतिष जैसे दैवी ज्ञान के पतन का कारण भी, अब ढाई वर्षो में तीन बार विरोधियों को ऐसा मौका मिला है। सब समय समय की बात होती है , 16 जनवरी को मेरे द्वारा दी गयी तिथि को भूकम्‍प के आ जाने से वे लोग उलूल जुलूल तर्क दे रहे थे और मैं आत्‍मविश्‍वास से भरी हुई थी। आज उनका आत्‍म विश्‍वास बढा हुआ है और मैं जो भी जबाब दूंगी, वह उलूल जुलूल तर्क होगा, बेहतर होगा कि चुप ही रहा जाए।


वैसे कोई भी क्षेत्र अपवाद से अछूता नहीं, अंतरिक्ष विज्ञान भी कल्‍पना चावला जी की मौत का जिम्‍मेदार है। प्रतिदिन डॉक्‍टर के द्वारा हजारों मरीजों के जान बचाए जा रहे हैं तो उन्‍हीं के द्वारा लापरवाही या अज्ञानता के कारण कुछ मौत के मुंह में भी ढकेले जा रहे हैं। विज्ञान के विकास से जितना सुख सुविधा मनुष्‍यों को मिली है , उससे कम ह्रास भी नहीं हुआ है। यहां तक कि ग्रहों के खराब रहने से बडे से बडे क्रिकेटर फॉर्म में नहीं होते, इतिहास की पुस्‍तकों में बडे से बडे राजाओं पर भी ग्रहों का प्रभाव देखा गया है ,  'महाभारत' भी गवाह है‍ कि अर्जुन जैसे पराक्रमी धनुर्धारी को एक आदिवासी भील से पराजित होना पडा था, जो प्रमाणित करता है कि समय बडा बलवान होता है। 


वैसे इस पोस्‍ट के लिखने और प्रकाशित होने तक बहुत जगहों पर आंधी और बारिश की खबर आ चुकी है , हां मेरे हिसाब से इस योग की तीव्रता जितनी होनी चाहिए थी , अभी तक नहीं दिखाई पडी है , वैसे अभी भी 4 फरवरी को पूरा होने में 6 घंटे बाकी है और इतने कम साधनों के मध्‍य एक दो दिन के एरर की छूट मुझे मिलनी चाहिए, विभिन्‍न हिस्‍सों में आंधी पानी के ये रहे सबूत ...
http://lalitdotcom.blogspot.com/2010/02/3-4.html
http://navbharattimes.indiatimes.com/delhiarticleshow/5511670.cms
http://www.bhaskar.com/2010/01/13/100113145501_188297.html
http://www.bhaskar.com/2010/01/24/100124034555_coldwave.html
http://www.bhaskar.com/2010/02/04/100204120602_249694.html
http://www.bhaskar.com/2010/02/04/100204015734_252326.html


एक टिप्पणी भेजें