शुक्रवार, 29 अक्तूबर 2010

अब मौसम की गडबडी दिसंबर के पहले सप्‍ताह में ही दिखती है !!

अभी नवंबर की शुरूआत भी नहीं हुई कि गुलाबी ठंड की दस्तक हो गयी है। बीते दो दिनों से मौसम में सुबह से शाम तक ठंडक का ही माहौल रहा है। तापमान में गिरावट आने से भोर में हल्की ठंड पड़ने लगी है , ऐसे में लोगों का ध्‍यान है कि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष ठंड जल्‍द पड गयी है , नवंबर में मौसम सुहावना नहीं रह पाएगा , हो सकता है कडकडाती ठंड का भी सामना करना पडे। 

इधर दो दिनों में कुछ ग्रह स्थिति मौसम के पक्ष में नहीं थी , इसलिए कुछ अधिक ही ठंड का अहसास हो रहा है , पर आनेवाले समय में ठंड के बढते जाने के आसार नही। पर 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के नियमों की माने तो भले ही नवंबर का महीना ठंड का महीना है , इसलिए गुलाबी ठंड लोगों को महसूस होती रहे , पर कडकडाती ठंड का सामना करने को लोग तभी मजबूर होते हैं ,जब तेज हवाएं चल रही हो, आसमान में बादल बनें हों , यत्र तत्र बारीश के छींटे पड रहे हों या पहाडी प्रदेशों में बर्फ गिर रहे हों। पर अभी आनेवाले समय में ऐसे कोई हालात नहीं दिख रहे।

 6 और 7 दिसंबर 2010 को कुछ ग्रहों की खास स्‍िथति भारत के मौसम में गडबडी लाने में जिम्‍मेदार होगी। इसके प्रभाव से तेज हवाएं चलेंगी , आसमान में बादल बनेंगे, यत्र तत्र बारिश , बर्फ गिरने की घटनाएं होगी , मैदानी क्षेत्रों में कुहरे से यातायात क्षेत्र खासा प्रभावित होगा , जिससे जन जीवन अस्‍त व्‍यस्‍त होगा। ऐसे में तापमान घटने से कडकडाती ठंड होने से इंकार नहीं किया जा सकता। इसका प्रभाव एक सप्‍ताह पहले से देखा जा सकता है। पर 6 और 7 दिसंबर को इसका प्रभाव सबसे अधिक देखने को मिलेगा , उससे पूर्व ठंड के बढने के कोई आसार नहीं दिखते।

6 या 7 दिसंबर के बाद मौसम में थोडी राहत अवश्‍य होगी , पर ठंड बढने का सिलसिला जारी रहेगा , छोटे रूप में मौसम की खराबी 20 दिसंबर के आसपास भी नजर आएगी , उस समय यत्र तत्र बारिश के कारण जनजीवन अस्‍तव्‍यस्‍त बना रहेगा। खेतों के फसलों , खासकर इस समय की सब्जियों वगैरह को भी नुकसान पहुंच सकता है। यही समय फसलों के खलिहान में बने होने का भी है , इसलिए किसानों को इन्‍हें लेकर भी तनाव बना रहेगा। मौसम की खराबी थोडी कम और अधिक होते हुए जनवरी के मध्‍य तक जाएगी। 10 और 11 जनवरी को बडे रूप में एक बार मौसम की खराबी , जिसमें तेज हवाओं से लेकर बारिश , आंधी और बर्फ गिरना सब शामिल है , के बाद ही अचानक ठंड से छुटकारा मिलेगा।
एक टिप्पणी भेजें