बुधवार, 27 अप्रैल 2011

शेयर बाजार के पक्ष में है आनेवाले दिनों की ग्रहस्थिति .....

पिछले एक महीने में भारतीय शेयर बाजारों में हुई आश्चर्यजनक बढत के बाद पिछले सप्ताह बाजार कुछ कमजोर पडा है , फरवरी में विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजार से ,५८५. करोड़ रुपये वापस निकाल लिए थे। क्यूंकि 2011 के पहले तीन माह में वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों की वजह से भारतीय शेयर बाजारों में उतार-चढ़ाव बना हुआ था। बढ़ती महंगाई और उससे निबटने के लिए बैंको द्वारा ब्याज दर बढाए जाने का खतरा भी भारतीय बाजार पर धीरे-धीरे हावी होता जा रहा था। ज्यादातर जानकार महंगाई के मुद्दे पर चिंता जता रहे हैं। लेकिन, मार्च के दौरान उन्होने बाजार में ,७४९.६० करोड़ रुपये पूंजी निवेश किया।


विशेषज्ञों का मानना है कि भारतीय बाजार की विकास क्षमताओं को देखते हुए ही एफआईआई यहां शेयरों में पूंजी निवेश कर रहे हैं। इस महीने भी यह सिलसिला बरकरार रहने वाला है। पिछले कुछ सत्रों में वैश्विक निवेशक विकसित बाजारों से निकल कर उभरते बाजारों की तरफ आकर्षित हुए हैं। ऐसे में भारतीय बाजार प्रमुख लाभार्थियों में से एक के रूप में उभरा है। उनके मुताबिक एफआईआई को भारतीय कॉरपोरेट जगत से बेहतर सालाना नतीजों की उम्मीद भी इसकी एक बड़ी वजह हो सकती है। इस साल मॉनसून सामान्य रहने का पूर्वानुमान भी बाजार के लिए उत्साह का संचार करने वाला हो सकता है।

पर कुछ विशेषज्ञ अभी भी मानते हैं कि भारतीय बाजारों के फंडामेंटल मजबूत नहीं हैं और बड़े फंड हाउस भारतीय शेयर बाजार में निवेश घटा रहे हैं। इसलिए भारतीय बाजारों में सतर्कता के साथ निवेश करने की सलाह दे रहे हैं शेयर बाजार में आम शेयरधारकों को बीच में मुंह  की खानी पड़ी थी , लिहाजा वे तय नहीं कर पा रहे हैं कि इस रुझान पर कितना भरोसा करें।  ऐसी असमंजस की स्थिति में शेयर बाजार को प्रभावित करने वाले ग्रहों की स्थिति पर गौर किया जाना आवश्यक है।

आनेवाले दिनों में ग्रहस्थिति पूर्ण तौर पर शेयर बाजार के पक्ष में दिखती है। सिर्फ छोटे छोटे अंतराल में बिकवाली का थोडा दबाब बना रहेगा , जिससे बाजार में गिरावट आती रहेगी। 27 और 28 अप्रैल की ग्रहस्थिति शेयर बाजार के लिए बहुत सुखद नहीं , इसलिए इन दिनों में सेंसेक् और निफ्टी की स्थिति कुछ कमजोर दिख सकती है , खासकर मेटल सेक्टर के शेयर काफी कमजोर दिखेंगे। पर 28 अप्रैल के दोपहर के बाद ही शेयर बाजार में बडी मजबूती देखने को मिलेगी और दो तीन दिन तो शेयर बाजार में चौतरफा बढत देखने को मिलेगी। इस तरह अभी आनेवाले कुछ दिनों तक पुन: शेयर बाजार में गति देखी जा सकेगी।


एक टिप्पणी भेजें