रविवार, 20 अगस्त 2017

बाढ़ की भयावहता

कई फ़ोन आये बिहार और अन्य बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से, कबतक झेलना होगा हमें यह सब। अखबार में भी पढ़ने को मिला ....... 
 की अधिकतर नदियों का जलस्तर कम तो हो रहा है, लेकिन हफ्तेभर से बेहाल बाढ़ पी़डि़तों की मुश्किलें कम नहीं हुई हैं। राज्य के 18 जिलों में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है। हाल ही में बहादुरगंज-अररिया मार्ग का एक वीडियो सामने आया है। इस मार्ग पर बना एक पुल बाढ़ से बह गया और उसे पार कर रहे मां-बेटी की मौत हो गई, जबकि तीसरे व्यक्ति को बचा लिया गया। इस वीडियो को यूट्यूब पर अब तक साढ़े चार लाख बार देखा जा चुका है।

दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया है. हायाघाट स्टेशन से पहले मुंडा रेल पुल पर बागमती नदी के पानी का दवाब अत्यधिक हो जाने की वजह से रेलवे में यह निर्णय लिया है. इस वजह से अमृतसर जाने वाली जननायक एक्सप्रेस रद्द कर दी गयी है. सियालदाह जाने वाली गंगा सागर तथा नयी दिल्ली जाने वाली स्वतंत्रता सेनानी सुपरफास्ट एक्सप्रेस वाया सीतामढ़ी मुजफ्फरपुर जा
उत्तर प्रदेश के पूर्वी इलाकों में कहर बरपा रही बाढ़ और वर्षाजनित हादसों में 40 से अधिक लोगों की मृत्यु हुई है। राज्य सरकार के आंकड़ों के मुताबिक बाढ़ से 22 जिलों के 3000 से अधिक गांव प्रभावित हैं। बाढ़ की वजह से 40 से अधिक लोगों की जान गई है और एक लाख से ज्यादा मवेशी प्रभावित हुए हैं। मवेशियों के मरने की स्पष्ट संख्या की जानकारी तो नहीं दी गई है लेकिन एक अनुमान के तहत सैंकड़ों मवेशियों की जान गई है। बाढ़ की वजह से 15 लाख से अधिक आबादी प्रभावित है। डेढ़ लाख हैक्टेयर से ज्यादा खेतों में खड़ी फसल बर्बाद हो गई।
बिहार के 15 जिले बाढ़ की चपेट में हैं. पटना के आस-पास की नदियों का जल स्तर काफी बढ़ा हुआ है. पटना के जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है. वहीं, मौसम विभाग की ओर से जारी अलर्ट के मुताबिक बिहार में भारी बारिश की संभावना भी जतायी गयी है. अगले 24 घंटे के मौसम पूर्वानुमान में पटना, गया, भागलपुर एवं पूर्णिया में आम तौर पर बादल छाये रहने के साथ बारिश अथवा गरज के साथ छीटें पड़ने की संभावना जतायी गयी है. बिहार में पिछले 24 घंटे के दौरान दक्षिण पश्चिम मानसून के सक्रिय रहने के साथ प्रदेश के कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने के साथ उत्तर पश्चिम एवं दक्षिण पश्चिम इलाकों में एक अथवा कई स्थानों पर भारी वर्षा रिकार्ड की गयी.
बाढ़ से सम्बंधित उपरोक्त खबर वेब समाचार पत्रों की खबर है जिनके लिंक भी बनाये गए है, पर शायद ही आपको मालूम होगा कि १३ से २६ अक्टूबर के दौरान होने वाले मूसलाधार बारिश और अन्य प्रकार की प्राकृतिक घटनाओ की भविष्यवाणी फेसबुक पर मेरे पिताजी श्री विद्या सागर महथा जी के द्वारा की जा चुकी थी, इस लिंक पर क्लिक करें ....... 

यानि निष्कर्ष के तौर पर स्पष्ट है २७ अगस्त से धीरे धीरे बाढ़ की भयावहता समाप्त हो जाएगी, जैसा की ग्रह-योग इशारा कर रहे हैं। पर अभी भी एक सप्ताह का समय और बाकि है , समझ में नहीं आता कैसे काटेंगे लोग इस विपत्ति भरे समय को ?


एक टिप्पणी भेजें