शुक्रवार, 19 अक्तूबर 2018

गोचर में शनि की स्थिति का जनमानस पर प्रभाव

फलित ज्‍योतिष के ग्रंथों के अनुसार शनि को भयावह ग्रह माना जाता है , जबकि ऐसी कोई बात नहीं है । 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के अनुसार अन्य ग्रहों की तरह ही शनि भी तबतक जातकों को परेशान नहीं करता , जबतक उसकी गत्‍यात्‍मक शक्ति कम नहीं हो जाती है। गत्‍यात्‍मक शक्ति कम हो जाने पर जातक को शनि के कारण उससे सम्बंधित भावों की कुछ परेशानी मिल जाती है। 2017 के फ़रवरी से ही शनि ने धनु राशि में प्रवेश किया है पर मैं 2018-2019 की शनि की चाल का पृथ्वी के जड़-चेतन पर पड़नेवाले प्रभाव की व्याख्या कर रही हूँ। 2019 में 11 अप्रैल को शनि सूर्य के साथ ९० डिग्री की कोणात्मक दूरी बनाएगा । इस समय शनि और पृथ्वी की दुरी औसत के आस-पास होगी । ऐसे समय में शनि काफी क्रियाशील होता है और जनसामान्य को शनि से सम्बंधित कार्यों में उलझने के लिए बाध्य करता है।

यूं तो धनु राशि में शनि की स्थिति शुरू से ही लोगों के सुख और दुख दोनो का कारण बनी हुई है , पर 2019 के 11 से 30 अप्रैल तक दिन ब दिन इसकी स्‍थैतिक शक्ति में हो रही वृद्धि कुछ लोगों की मन:स्थिति को सुखद बनाएगी , तो कुछ तनाव झेलने को भी विवश होंगे । इस तीन सप्ताह तक लोग शनि के कारण उत्पन्न होनेवाले कार्य में उलझे होंगे। चूंकि शनि मकर और कुम्भ राशि का स्वामी है और इसकी स्थिति अभी धनु राशि में है , इसलिए धनु , मकर और कुम्भ राशि से संबंधित कार्यों में ही सुख या दुख की अधिक संभावना रहेगी। 72 से 84 वर्ष की उम्र के वृद्ध , जिनका जन्मकालीन शनि कमजोर है , यानि 1940 के सितम्बर से दिसम्बर तक , 1941 के सितम्बर से दिसम्बर तक , 1942 सितम्बर से 1943 के जनवरी तक , 1943 के नवम्बर-दिसंबर, 1944 के नवंबर से 1945 के फ़रवरी तक , 1945 के दिसंबर से 1946 के मार्च तक जन्म लेने वालों को शनि की इस स्थिति से तकलीफ होगी। प्रतिवर्ष इस समय से दो चार महीने दूर जन्म लेने वाले वृद्ध पर शनि का शुभ प्रभाव पड़ेगा।


शनि की इस स्थिति के कारण जुलाई 1947 से जुलाई 1949 तक, अगस्त 1976 से अगस्त 1978 तक तथा जुलाई 2005 से अगस्त 2007 तक जन्‍म लेनेवाले उत्साहित होकर कार्य में जुटे रहेंगे । शनि के कारण 11 अप्रैल से शुरू हुई कार्यक्रमों में बाधा की शुरुआत अप्रैल के अंतिम सप्ताह में होगी। जून के पहले सप्ताह तक काम लगभग रुका हुआ सा महसूस होगा। उसके बाद ही काम के शुरू किए जाने के लिए आशा की कोई किरण दिखाई दे सकती है। सितम्बर की शुरुआत में स्थगित कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में उपस्थित होकर गतिमान होगा और अक्टूबर के शुरुआत में अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। शनि के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इन लोगों को खुशी होगी। किसी खास संदर्भ में सफलता से इनका उत्‍साह बढा रहेगा।

किन्तु धनु राशि में शनि की इस विशेष स्थिति से जुलाई 1941 से मई 1944 , मई 1971 से जून 1973 तथा जून 2000 से जून 2002 तक जन्‍म लेनेवाले लोग निराशाजनक वातावरण में कार्य करने को बाध्य होंगे। अप्रैल के अंत में कार्य के असफल होने से उन्हें तनाव का सामना करना पड सकता है। जुलाई के पहले सप्ताह में उनके समक्ष किकर्तब्‍यविमूढावस्‍था की स्थिति बनी रहेगी। सितम्बर की शुरुआत में निराशाजनक वातावरण में ही स्थगित कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में उपस्थित होकर गतिमान होगा और अक्टूबर के शुरुआत में अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। शनि के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इन लोगों को कष्‍ट पहुंचेगा। किसी खास मुद्दे को लेकर फ़रवरी से अगस्त तक इनकी परेशानी बनी रह सकती है।

इसके अलावे गोचर के इस शनि के कारण कर्क राशि वाले पर शुभ प्रभाव तथा वृष राशि वाले बुरा प्रभाव महसूस करेंगे। काफी हद तक धनुराशि वाले पर भी शनि के इस चाल का अच्‍छा प्रभाव पडेगा। कुछ हद तक जुलाई-अगस्त माह में जन्‍म लेनेवालों के लिए शनि की यह स्थिति शुभ प्रभाव देने वाली होगी , जबकि मई-जून माह में जन्‍म लेनेवाले इसके बुरे प्रभाव से युक्‍त हो सकते हैं। यदि ऊपर मौजूद तिथियों या राशि कोई जातक एक साथ शनि के अच्‍छे और बुरे दोनो प्रभाव में आते हों , तो उनपर शनि का मिश्रित प्रभाव पडेगा , यानि कोई कठिनाई आएगी तो उसके समाधान के रास्‍ते भी दिखेंगे।

शनि के इस खास चाल के कारण ऊपर मौजूद तिथियों या राशि में जन्‍म लेनेवाले विभिन्‍न लग्‍नवाले भिन्‍न भिनन प्रकार के सुख या दुख से खुद को संयुक्‍त पाएंगे। मेष लग्‍नवाले पिता , समाज , पद-प्रतिष्ठा , हर प्रकार के लाभ के मामले से संबंधित, वृष लग्‍नवाले पिता , समाज , पद-प्रतिष्ठा , भाग्य के मामले से संबंधित , मिथुन लग्‍नवाले जीवन-शैली और भाग्य से सम्बंधित मामलों , कर्क लग्‍नवाले पति, घर-गृहस्थी , जीवनशैली से संबंधित , सिंह लग्‍नवाले पति-पत्नी , घर-गृहस्थी और प्रभाव से सम्बंधित , कन्‍या लग्‍नवाले बुद्धि, ज्ञान , संतान , हर प्रकार के झंझट, प्रभाव से सम्बंधित , तुला लग्‍नवाले माता पक्ष , हर प्रकार की संपत्ति , बुद्धि , ज्ञान , संतान आदि मामले , वृश्चिक लग्‍नवाले माता , भाई-बंधु , हर प्रकार की संपत्ति , स्थायित्व आदि के मामले , धनु लग्‍नवाले धन , कोष , परिवार , भाई - बहन , बंधू-बांधव के मामले , मकर लग्‍नवाले शरीर-व्यक्तित्व, धन-कोष आदि मामले , कुम्भ लग्नवाले शरीर-व्यक्तित्व , खर्च , बाहरी सन्दर्भों के मामले , मीन लग्‍नवाले लाभ , लक्ष्य , खर्च और बाहरी संन्दर्भों की मजबूती या कमजोरी से खुद को सुखी या दुखी महसूस करेंगे .

गोचर में वृश्चिक राशि का बृहस्‍पति का जनमानस पर प्रभाव

फलित ज्‍योतिष के ग्रंथों के अनुसार बृहस्पति नवग्रहों में सबसे शुभ है। इसलिए माना जाता है कि गोचर में अधिकांश समय बृहस्पति की स्थिति जनसामान्‍य के लिए सुखद ही बनी होती है। 'गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष' के अनुसार भी बृहस्‍पति तबतक जातकों को परेशान नहीं करता , जबतक वह गत्‍यात्‍मक शक्ति संपन्‍न होता है। गत्‍यात्‍मक शक्ति बहुत कम हो जाने पर भले ही जातक को बृहस्‍पति के कारण कुछ परेशानी मिल जाती है। वर्षभर तुला राशि में रहने के बाद आज यानी 12 अक्टूबर 2017 को देवगुरु बृहस्पति ने वह राशि छोड दी है। यहां से लेकर 4 नवंबर 2019 तक एक वर्ष से अधिक अवधि मंगल के वृश्चिक राशि में स्थित होंगे । राशिचक्र की यह आठवीं राशि है , जिसका विस्‍तार भचक्र में 211 डिग्री से लेकर 240 डिग्री तक माना गया है।

यूं तो वृश्चिक राशि में बृहस्‍पति की स्थिति अभी से ही लोगों के सुख और दुख दोनो का कारण बनेगी , पर 15 मार्च से ११ अप्रैल तक दिन ब दिन इसकी स्‍थैतिक शक्ति में हो रही वृद्धि कुछ लोगों की मन:स्थिति को सुखद बनाएगी , तो कुछ तनाव झेलने को भी विवश होंगे। इस तरह इस एक महीनें में लोग बृहस्पति के कारण उत्पन्न होनेवाले कार्य में उलझे रहेंगे। चूंकि बृहस्पति धनु और मीन राशि का स्वामी है और इसकी स्थिति वृश्चिक राशि में होगी , इसलिए धनु , मीन और वृश्चिक राशि से संबंधित कार्यों में ही सुख या दुख की अधिक संभावना रहेगी। 60 से 66 वर्ष की उम्र के वृद्ध , जिनका जन्मकालीन बृहस्पति कमजोर है , यानि 1953 के नवम्बर-दिसंबर , 1954 के जनवरी , 1955 के जनवरी-फ़रवरी , 1956 के जनवरी-फ़रवरी-मार्च , 1957 के फ़रवरी-मार्च-अप्रैल , 1958 के मार्च-अप्रैल-मई , 1959 के अप्रैल-मई-जून के आसपास जन्म लेने वालों को बृहस्पति की इस स्थिति से तकलीफ होगी। प्रतिवर्ष इन महीनो से दो चार महीने पहले या बाद में जन्म लेने वाले वृद्धों पर बृहस्पति का शुभ प्रभाव पडेगा। 

बृहस्‍पति की इस स्थिति के कारण 1942 के मध्य से 1943 के मध्य तक , 1954 के मध्य से 1955 के मध्य तक , 1966 से 1967 के मध्य तक , 1978 के मध्य से 1979 के मध्य तक , 1989 के मध्य से 1990 के मध्य तक , 2001 के मध्य से 2002 के मध्य तक तथा 2013 के मध्य से 2014 के मध्य तक जन्‍म लेनेवाले उत्साहित होकर कार्य में जुटे रहेंगे। एक महीनें तक कार्य अच्छी तरह होने के पश्चात अप्रैल के दूसरे सप्ताह में किसी न किसी प्रकार के व्यवधान के उपस्थित होने से कार्य की गति कुछ धीमी पड़ जाएगी। जून के दूसरे सप्ताह तक काम लगभग रुका हुआ सा महसूस होगा। उसके बाद ही काम के शुरू किए जाने के लिए आशा की कोई किरण दिखाई दे सकती है। जुलाई के दूसरे सप्ताह में स्थगित कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में उपस्थित होकर गतिमान होगा और अगस्त के दूसरे सप्ताह तक अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। बृहस्पति के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इन लोगों को खुशी होगी। किसी खास संदर्भ में सफलता से इनका उत्‍साह बढा रहेगा।

किन्तु तुला राशि में बृहस्पति की इस विशेष स्थिति से 1940 के मध्य से 1941 के मध्य तक, 1952 के मध्य से 1953 के मध्य तक , 1964 के मध्य से 1965 के मध्य तक, 1976 के मध्य से 1977 के मध्य तक, 1988 के मध्य से 1989 के मध्य तक, 1999 के मध्य से 2000 के मध्य तक, 2011 से 2012 के मध्य तक जन्‍म लेनेवाले लोगों , खासकर इन वर्षों में जनवरी-फ़रवरी--जुलाई-अगस्त में जन्म लेने वालों को कष्‍ट या तकलीफ भी होगी। वे पूरी अवधी में निराशाजनक वातावरण में कार्य करने को बाध्य होंगे। अप्रैल के दूसरे सप्ताह के बाद कार्य के असफल होने से उन्हें तनाव का सामना करना पड सकता है। जून के दूसरे सप्ताह तक उनके समक्ष किकर्तब्‍यविमूढावस्‍था की स्थिति बनी रहेगी। अगस्त के दूसरे सप्ताह में निराशाजनक वातावरण में ही स्थगित कार्य पुन: उसी रुप में या बदले हुए रुप में उपस्थित होकर गतिमान होगा और सितम्बर के दूसरे सप्ताह तक अपने निर्णयात्मक मोड़ पर पहुंच जाएगा। बृहस्पति के कारण होनेवाले इस निर्णय से भी इन लोगों को कष्‍ट पहुंचेगा। किसी खास मुद्दे को लेकर मार्च से सितम्बर तक इनकी परेशानी बनी रह सकती है। 

इसके अलावे गोचर के इस बृहस्‍पति के कारण मिथुन राशि वाले शुभ प्रभाव तथा मेष राशि वाले बुरा प्रभाव महसूस करेंगे। काफी हद तक वृश्चिक राशि वाले पर भी बृहस्‍पति के इस चाल का अच्‍छा प्रभाव पडेगा। कुछ हद तक जून-जुलाई माह में जन्‍म लेनेवालों के लिए बृहस्‍पति की यह स्थिति शुभ प्रभाव देने वाली होगी , जबकि अप्रैल-मई माह में जन्‍म लेनेवाले इसके बुरे प्रभाव से युक्‍त हो सकते हैं। यदि ऊपर मौजूद तिथियों या राशि कोई जातक एक साथ बृहस्‍पति के अच्‍छे और बुरे दोनो प्रभाव में आते हों , तो उनपर बृहसपति का मिश्रित प्रभाव पडेगा , यानि कोई कठिनाई आएगी तो उसके समाधान के रास्‍ते भी दिखेंगे।

बृहस्‍पति के इस खास चाल के कारण ऊपर मौजूद तिथियों या राशि में जन्‍म लेनेवाले विभिन्‍न लग्‍नवाले भिन्‍न भिन्न प्रकार के सुख या दुख से खुद को संयुक्‍त पाएंगे। मेष लग्‍नवाले भाग्‍य , धर्म , खर्च या बाहरी संदर्भों से संबंधित, वृष लग्‍नवाले हर प्रकार के लाभ के मामले , रूटीन और जीवनशैली से संबंधित , मिथुन लग्‍नवाले घर गृहस्‍थी , पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष , कैरियर से संबंधित , कर्क लग्‍नवाले धर्म , भाग्‍य ,प्रभाव से संबंधित , सिंह लग्‍नवाले अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई , रूटीन या जीवनशैली से संबंधित , कन्‍या लग्‍नवाले माता पक्ष , छोटी या बडी संपत्ति , घर गृहस्‍थी से संबंधित , तुला लग्‍नवाले भाई , बहन या अन्‍य बंधु , खर्च और बाहरी संदर्भ से संबंधित , वृश्चिक लग्‍नवाले धन , कोष , अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई से संबंधित , धनु लग्‍नवाले स्‍वास्‍थ्‍य , माता पक्ष , किसी प्रकार की छोटी या बडी संपत्ति से संबंधित , मकर लग्‍नवाले भाई , बहन या अन्‍य बंधु खर्च और बाहरी संदर्भ से संबंधित , कुंभ लग्‍नवाले धन , कोष , लाभ या लक्ष्‍य से संबंधित , मीन लग्‍नवाले स्‍वास्‍थ्‍य , पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष , कैरियर प्रकार की छोटी या बडी संपत्ति से संबंधित मामलों की मजबूती या कमजोरी से खुद को सुखी या दुखी महसूस करेंगे।

Lagna Rashifal


  1. मेष लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है , लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा! कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  माता पक्ष के किसी कार्यक्रम में बाधा उपस्थित होगी , वाहन या किसी प्रकार की संपत्ति कष्ट का कारण बनेगी। इनसे संबंधित किसी कार्यक्रम में निराशा आए , उससे पहले ही सावधानी बरतें!  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। 
  2. वृष लग्नवालों के लिए - 19 , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  सामाजिक कार्यक्रम वाले स्थान पर सुखद अहसास बनेगा, जरूर सम्मिलित हों! पिता पक्ष से सहयोग लेने के कार्यक्रम बनाएं, कर्मक्षेत्र का माहौल भी मनोनुकूल होगा, चुनौतीपूर्ण कार्यों को निबटाया जा सकता है! रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। भाई.बहन,बंधु बांधवों से विचार के तालमेल का अभाव बनेगा, सहकर्मियों से भी संबंध में गडबडी आएगी। इसलिए ऐसा माहौल न बनाएं कि उनसे विवाद हो। 
  3. मिथुन लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  रूटीन मनमौजी ढंग का होगा , किसी कार्यक्रम को अंजाम देने में समय की कमी नहीं होगी। इसलिए कुछ अतिरिक्त काम करने की कोशिश करें! भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  घर गत्रहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। धन की स्थिति कमजोर दिखाई देगी, इसे मजबूत बनाने का हर प्रयास बेकार होगा। ऐसे कार्यक्रम न बनाएं तो बेहतर है!  
  4. कर्क लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा। प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा। भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  स्वास्थ्य गडबड रहेगा, आत्मविश्वास की कमी बनेगी, व्यक्तित्व कमजोर दिखाई देगा। इसलिए इससे संबंधित कार्यक्रम से बचे!  
  5. सिंह लग्नवालों के लिए - 19 , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है। ये दिन  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  बेवजह के उपस्थित खर्चों से परेशानी होगी,  शापिंग के कार्यक्रम न बनाएं तो बेहतर है! बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तकलीफ होगा, घूमने फिरने के कार्यक्रमों से भी परहेज रखें!  
  6. कन्या लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी। घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  लाभ के कमजोर रहने से तनाव बनेगा, निराश न हों! लक्ष्य की ओर बढने में बाधा उपस्थित होगी , इंतजार करें!  
  7. तुला लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  ये दिन बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  पिता पक्ष कमजोर बना रहेगा , उनसे सहयोग की उम्मीद न रखें! कर्मक्षेत्र में भी परेशानी रहेगी, बात बढने से पहले ही समाप्त करने की कोशिश करें, नही तो प्रतिष्ठा पर आंच आ सकती है। 
  8. वृश्चिक लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  संयोग के न बन पाने से कोई असफलता दिखाई पड सकती है, परेशान न हों! किसी धार्मिक क्रियाकलापों के बाद भी निराशा ही बनेगी, इसलिए ऐसे कार्यक्रमों से बचे!  
  9. धनु लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी। रूटीन अस्त व्यस्त रहेगा और किसी घटना का प्रभाव जीवनशैली पर बुरे ढंग से पडेगा। हर कदम सुरक्षित ढंग से व्यतीत करें, हडबडी ना करें। 
  10. मकर लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा। घर गृहस्थी का वातावरण अच्छा नहीं दिखाई देगा, ससुराल पक्ष का तनाव उपस्थित हो सकता है। प्रेम संबंध में भी कुछ दूरी बनेगी। इनसे संबंधित मामलों को निर्णायक मोड पर लाने की आवश्यकता नहीं!  
  11. कुंभ लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है। कुछ झंझट उपस्थित होंगे , झंझटों को सुलझाने में प्रभाव की कमजोर स्थिति के कारण दिक्कत आएगी। इसलिए शार्टकट का सहारा न लेकर सुरक्षित राह पर चलें! 
  12. मीन लग्नवालों के लिए - 19  , 20 और 21 अक्तूबर 2018 को  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई का वातावरण कमजोर रहेगा , संतान के अन्य किसी पक्ष से से संबंधित माहौल भी कमजोर बना रहेगा। समस्या को लेकर अधिक गंभीर न बने। 

मंगलवार, 16 अक्तूबर 2018

Lagna Rashifal

मेष लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  
वृष लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा! किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  
मिथुन लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी।  रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  
कर्क लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए महत्वपूर्ण होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा। किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। 
सिंह लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। 
कन्या लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा। धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा! 
तुला लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।  
वृश्चिक लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा। भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  घर-गृहस्थी का महत्व बढेगा , ससुराल पक्ष के किसी कार्यक्रम में तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  
धनु लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  प्रभावशाली लोगों से संबंध की मजबूती बनेगी। कुछ झंझटों को सुलझाने में अपने प्रभाव का पूरा उपयोग करना होगा।  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी। 
मकर लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी , किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी। स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा। धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  बुद्धि ज्ञान के मामलों के लिए होंगे , संतान पक्ष के मामलों में निर्णय लिए जा सकते हैं।  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। 
कुंभ लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  किसी सामाजिक कार्यक्रम में पिता पक्ष का महत्व दिखाई देगा, कर्मक्षेत्र में भी बडी जबाबदेही मिल सकती है। प्रतिष्ठा बढने वाली कोई बात हो सकती है। भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है।  स्वास्थ्य या व्यक्तिगत गुणों को मजबूती देने के कार्यक्रम बनेंगे, स्मार्ट लोगों का साथ मिलेगा।  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है।  किसी कार्यक्रम में माता पक्ष का भी महत्व दिख सकता है, वाहन या सुख देने वाली किसी भी छोटी या बडी संपत्ति को प्राप्त करने के लिए मेहनत जारी रहेगी।  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  
मीन लग्नवालों के लिए - 17 और 18 अक्तूबर 2018 को  भाग्य , भगवान , धर्म . ये सब चिंतन के विषय बने रहेंगे। किसी धार्मिक क्रियाकलाप में व्यस्तता रहेगी! आध्यात्म की ओर भी ध्यान जाएगा!  धन की स्थिति को मजबूत बनाने के कार्यक्रम भी बनेंगे। संपन्न लोगों से विचार विमर्श होगा।  कोई बडा खर्च उपस्थित होगा, बाह़य संबंध मजबूत होंगे , पर बाहरी व्यक्ति या बाहरी स्थान से तालमेल बनाने की आवश्यकता पड सकती है। लाभ की संभावना है , इसे प्राप्त करने के लिए प्रयास बनेगा। कार्यक्रमों के प्रति गंभीरता बनी रहेगी।  भाई , बहन , बंधु बांधवों का महत्व बढेगा , उनके कार्यक्रमों के साथ तालमेल बैठाने की आवश्यकता पड सकती है। रूटीन सुव्यवस्थित होगा , जिससे समय पर सारे कार्यों को अंजाम दिया जा सकेगा।