शनिवार, 6 अप्रैल 2019

नए वर्ष की अनंत शुभकामनायें .. जल्द ही हमारा एप्प आने वाला है !!

भारत के विभिन्न हिस्सों में नव वर्ष अलग-अलग तिथियों को मनाया जाता है। गणना की सुविधा को देखते हुए आज अंतर्राष्ट्रीय मानकों में अंग्रेजी केलेन्डर ने मान्यता पायी है ।पर ग्रंथों की मान्यता है कि सृष्टि की शुरुआत चैत्र शुदी १ को हुई थी, इसलिए इस दिन को नवसंवत्सर यानी साल का पहला दिन माना जाता है। नव वर्ष की प्रणाली ब्रह्माण्ड पर आधारित होती है, यह तब शुरु होता है जब सूर्य या चंद्रमा मेष के पहले बिंदु में प्रवेश करते हैं। पर प्रत्येक वर्ष सूर्य और चंद्रमा दोनों का उस विन्दु पर प्रवेश एक साथ नहीं होता, इसलिए भारत के अलग-अलग क्षेत्रों में इस तरह के कई संवत्सरों को मान्यता प्राप्त है। लगभग सभी प्रदेशों में अलग-अलग नामों से मार्च-अप्रैल के महीने में नया वर्ष मनाया जाता है। बंगाल में १४ या १५ अप्रैल को मनाया जाने वाला त्यौहार के साथ ही नए वर्ष मानाने का सिसिला समाप्त हो जाता है। यदि हम अंग्रेजी के केलिन्डर के नामों को देखें तो सितम्बर-अक्टूबर-नवंबर-दिसंबर अंक ७-८-९-१० का प्रतिनिधित्व करता दिखता है। ऐसा भी तभी संभव है, जब साल की शुरुआत मार्च से हो। भारतवर्ष में मार्च-अप्रैल में वसंत का मौसम होता है, पेड़-पोधों मे फूल-मंजर-कली की शुरुआत होती है, कोयल की कूक वातावरण को खुशनुमा बनाती है। घर फसलों से भरे होते हैं, शायद इसलिए भी यह त्यौहार मानाने का समय माना जाता है।

हमारे क्लाइंट्स को हमारे अनुभव का लाभ अच्छे से पहुँच पाए, इसके लिए पिछले पांच साल से एक एप्प को लांच करने की आवश्यकता थी। पर परिवार में किसी न किसी की अस्वस्थता और पारिवारिक उलझनों की वजह से बात नहीं बन पा रही थी। पिछले साल से ही कठिन श्रम के बाद 'गत्यात्मक ज्योतिष' के एप्प को नए साल में लांच करने की पूरी तैयारी चल रही थी, पर नए साल से पहले ही २३ दिसम्बर २०१८ को मेरी मम्मी हमारा साथ छोड़कर ब्रह्माण्ड में विलीन हो गयी। आज नए वर्ष पर इसे लांच करने के लिए मैं दिल्ली आयी हूँ, पर 'गत्यात्मक ज्योतिष' के जनक हमारे पापाजी जरूरी कार्य से झारखण्ड में हैं। उनका आशीर्वाद के बिना कोई कार्य नहीं किया जा सकता, अतः पापाजी का इंतज़ार कर रही हूँ। अभी पुरे देश में नए वर्ष मानाने का सिलसिला चल ही रहा है, किसी प्रदेश के नए वर्ष पर हमारा एप्प प्लेस्टोर में आ जायेगा। यह भी हो सकता है कि १५ अप्रैल के बाद हम इसे प्लेस्टोर में डाल पाएं। यदि ऐसा हुआ तो 'गत्यात्मक ज्योतिष' के कारण भारतवर्ष में नया वर्ष मनाने का विस्तार १४ अप्रैल से भी आगे आगे बढ़ सकता है। जल्द ही आ रहा है हमारा एप्प , आप सबों को नए वर्ष की अनंत शुभकामनायें !!

कोई टिप्पणी नहीं: